Home देश इस काम के लिए कोर्ट ने CM योगी को दी इजाजत, कर...

इस काम के लिए कोर्ट ने CM योगी को दी इजाजत, कर डाला ये बड़ा कांड

SHARE

योगी आदित्यनाथ अभी उत्तर प्रदेश के सीएम बं गए है.जब से उत्तर प्रदेश के सीएम बने है तभी उन्होंने ने पद स्वीकारते ही एक घोषणा कर दि की कोई भी गैर क़ानूनी काम नहीं चलने देंगे.इसके कारन सभी बड़े बुचडखानों को बंद करवा दिया और फिर जिनके पास अवैध राशन कार्ड है वो जप्त किये गए.ये करवाई के समय एक आदमी के पास २५ राशन कार्ड मिले जो सरे जप्त कर दिए.

योगी अदित्यनाथ को अवैध कोर्ट से एक छुट मिली है.जिसके कारन वो अभी अवैध धार्मिक स्थलों को सपार्ट मैदान बना सकते है.अब जो भी कानून की बात नहीं मानेगा उन्हें पुलिस कड़ी सजा दे सकती है.ये देख कर अपराधियों के होश उड़ गए है.ये सब नए नियमोंसे उत्तर प्रदेश की जनता योगी राज में खुद को सुरक्षित महसूस समज रही है. एक खबर ऐसे भी थी की एक अवैद काम पर योगी जी ने सीधे बुलडोजर चढ़ा दिया.पर पिछली सरकर उसे सोचना भी भयंकर मानाकरती थी.मन जाता है की पिछली सरकर इन अवैध काम करने वालों पर ही सरकरी धन लुटाती थी.सीएम योगी जि ने इलाहबाद के अवैद लाउड स्पीकर के खिलाफ एक बड़ी करवाई का आदेश दिया है.और यही पर योगी जि नहीं रुके उन्होंने अवैध मदरसे और मस्जिद पर भी करवाई की जाने की खबर है.उसके तुरंत बाद सुलतान जिले की कादीपुर तहसील क्षेत्र स्थित बुढाना गाव सभा के खाते में दर्ज भूमि पर बैगेर अनुमति के बनाये जा रहे क्थाथित मदरसे व् मस्जिद को गिरना पड़ा.

देखा जाये पिछली सरकर उन गैर क़ानूनी मशीद जो कोर्ट के सामने बनी जा रही थी उसको भी न्यायलय हाटा नहीं पायी थी.पर जब योगी सकर उत्तर प्रदेश में आ गयी तो वो अवैध मस्जिद उन्होंने तुरंत हटाई.योगी जि एक नया तरीका अपनाया की उन्होंने मदरसे ऑनलाइन करवा दिए उसके कारण करीब ४००० फर्जी मदरसे सामने आ गए.और ऐसे कई गैर क़ानूनी मदरसे पर अब तेजी से करवाई होना सुरु कर दिया है.रविवार राजस्वा विभाग ने जेसीबी की मदत से निर्माण को नष्ट कर दिया.सजस्वा अधिकारोने बताया की बुढाना गाँव में बनाये जा रहे क्थाथित मदरसे व् मस्जिद उनकी इजाजत नहीं ली थी.उन्होंने सक्त कहा की गाँव में किसीकी मन मर्जी नहीं चलने देंगे.सिर्फ कानून की बात सब मानेंगे.इसके बाद सबको चेतावनी दे दी गयी की कोई भी ग्राम सभा के जमीं वर अवैध मदरसा और मस्जिद नहीं बनेगा .जो भी ये बात नहीं मानेगा उनके खिलाफ क़ानूनी करवाई होगी.