Home देश इस तरीके से देश को लूटने से बचाया PM मोदी ने, ये...

इस तरीके से देश को लूटने से बचाया PM मोदी ने, ये रिपोर्ट आयी सामने

SHARE

हाल ही में उद्योगपति नीरव मोदी ने किये हुए पी एन बी घोटाले के बाद पी एम मोदी पर बहुत से आरोप किये गए. लेकिन अंतररष्ट्रीय एजेंसी ट्रांस्परंसी इंटरनेशनल ने इस बात का जवाब टीका करने वालों को दे दिया है.

उद्योगपति नीरव मोदी ने पी एन बी में करीब ११ हजार करोड़ का घोटाला किया और विदेश में फरार हो गया. इस घोटाले को लेकर कई लोगो ने प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी पर निशाना लगाया है. राहुल गाँधी ने तो नीरव मोदी को छोटा मोदी तक कहा. नरेन्द्र मोदी इस बात पर शांत रहे और पलट कर कुछ भी नहीं कहा क्योंकि उनके काम से ही उनकी पहचान है. अंतरराष्ट्रीय एजेंसी ट्रांस्परंसी इंटरनेशनल ने पी एम मोदी की कार्य प्रणाली पर मोहर लगा दी है. अंतर्राष्ट्रीय गैरसरकारी संघटन ट्रांस्परंसी इंटरनेशनल ने बताया है की भारत की सरकारी क्षेत्र की छबी में २०१४ से पहले की स्थिति से काफी सुधार के संकेत है. संस्था की नयी रिपोर्ट ग्लोबल करप्शन इंडेक्स २०१७ में देश को ८१ वा स्थान मिला है, जब की कांग्रेस की सरकार में देश ८५ वे स्तान पर था.

इस बात से यह साफ़ है की नरेन्द्र मोदी के आर्थिक धोरण देश को उन्नति की राह पर ले कर चले है. केवल ४ वर्षो के अवधि में उन्होंने यह कमाल कर दिखाया है. देश को भ्रष्टाचार के खिलाफ एक कडा सन्देश देने के हेतु से यह सूचि १९९५ से बनायीं जा रही है. इसमें कुल १८० देशो का समावेश है. इसमें देश को ० से १०० तक के अंक में मूल्यंकन दिया जाता है. इस सुचे में विश्लेषक, कारोबारी, विशेषज्ञों के अनुभव और आकलन के आधार पर मूल्यांकन किया जाता है. इस में पत्रकार, कार्यकर्ताओं और विपक्षीय नेताओ के लिए काम करने की आज़ादी जैसे कुछ और अन्य बातों पर भी गौर किया जाता है. इन सब बातो पर देश की कसौटी ली जाती है और फिर मूल्यांकन किया जाता है.

ट्रांस्परंसी इंटरनेशनल के रिपोर्ट में कहा गया की एशिया के कुछ देशो में पत्रकार, विपक्शीय नेता, नियामक  अधिकारियो को धमकियां दी जाती है. कुछ देशो में यह स्थिति बिलकुल गंभीर है, उन लोगो की हत्या तक की जाती है. इसमें कमिटी तो प्रोटेक्ट जर्नालिस्ट का हवाला देते हुए कहा है की इन देशो में पिछले ६ सालो में १५ ऐसे पत्रकारो की हत्या हुई है जो भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्यरत थे. इस सूचि में न्यूझीलैंड और डेनमार्क नवासी और अट्ठासी अंक के साथ सबसे ऊपर है. सोमालिया, सूडान और सूडान ९, १२, और १४ वे स्थान पर है. वही चीन ७७, ब्राज़ील ९६ और रूस १३५ वे स्तान पर आते है. पत्रकारों की हत्या के सन्दर्भ में इस रिपोर्ट में भारत की तुलना फिलिपिन्स और मालदीव जैसे देशो के साथ की गयी है. कहा गया है की यह देश इस मामले में बहुत ही ख़राब स्थति में है.