इस देश की मदद से NSG मैं INDIA की ENTRY पक्की.

आप सबको ये पता ही है, की जबसे मोदी सरकार सत्ता में आई है ,तबसे भारत  NSG में सदस्यता के लिए लगातार कोशिश कर रहा है. लेकिन सभी देशो के सहमती के बाद भी चीन के विरोध के कारन भारत को NSG  में सदस्यता नहीं मिल रही है. रूस फिर एक बार भारत के साथ आकर अपने पुराणी दोस्ती का सबसे बड़ा सबूत दिया है.

रूस ने भारत के दुश्मन देश चीन और पकिस्तान को झटका देते हुए भारत का समर्थन किया है. रूस ने ये साफ़ शब्दों में कहा है की NSG सदस्यता के लिए भारत की तुलना पाकिस्तान जैसे देश से नहीं की जा सकती है. वही रूस के विदेश मंत्री ने भी भारत के विदेश सचिव एस जयशंकर से भारत की NSG सदस्यता का समर्थन किया किया है. रूस जैसे ताकदवर देश से मिले इस बयान के बाद चीन बड़ा झटका लगा है. चीन हमेशा मेरिट के आधार पर भारत को NSG  सदस्यता को इनकार करता है. दरअसल चीन की ये चाल है की NSG का विस्तार कर भविष्य में उसमे पकिस्तान को भी शामिल किया जाये. लेकिन चीन छोड़कर लगभग सभी देश NSG सदस्यता में पकिस्तान का विरोध कर रहे है.

रूस भारत को NSG सदस्यता के लिए लगातार कोशिशे कर रहा है. रूस के उपविदेश मंत्री ने ये भी कहा है की, इस मुद्दे को हल करने के लिए हम चीन से लगातार बातचीत कर रहे है, ताकि चीन जल्द से जल्द NSG मुद्दे पर भारत का समर्थन करे. आपकी जानकारी के लिए बतादे की क्यों चीन NSG सदस्यता में भारत का विरोध कर रहा है? चीन एशिया का सबसे ताकदवर मुल्क है तो वो ये कभी नहीं चाहेगा की इंडिया एक बड़ी तकाद के साथ दुनिया के सामने उभरे. कुछ महीनो पहले चीनी मीडिया के तरफ से भी कहा गया था की, अगर भारत को NSG में सद्स्यता मिल गयी तो वो चीन के लिए भविष्य में घटक साबित होगा. चीन को ये अच्छी तरह से पता है की भारत को एक बार NSG सदस्यता मिलने के बाद पूरी दुनिया में भारत की तकाद बढ़ जाएगी और भारत और तेजीसे विकास करेगा.