Home देश इस देश में लगातार दूसरी बार हुआ बम विस्फोट, इतने लोग मौत...

इस देश में लगातार दूसरी बार हुआ बम विस्फोट, इतने लोग मौत का शिकार

SHARE

सोमालिया में जारी धमाकों की कड़ी अभी तक जारी है. सोमालिया के लोगों में शांति की आस अब कम हो रही है. यहाँ पिछले कुछ दिनों से बमस्फोट की घटनाये लगातार हो रही है. सोमालिया की राजधानी मोगादिशू में शुक्रवार को २ बमस्फोट हुए है. इस घटना ने सोमालिया को फिर एक बार हिला कर रख दिया है. यहाँ से मिली ख़बरों के अनुसार बताया जा रहा है की यहाँ दो अलग-अलग विस्फोटो में दो सुरक्षाकर्मियों सहित कम से कम छह लोग मारे गए है. और भी लोग मारे गए होने की सम्भावना प्रशासन के तरफ बताई जा रही है.

शुक्रवार को राजधानी में हुए इस बम विस्फोट में कई लोग घायल भी हो चुके है. घायलों को नजदीकी अस्पताल में भारती कर दिया गया है. उनपर अभी इलाजचल रहा है. राजधानी मोगादिशू में शुक्रवार को दो अलग अलग जगहों पर विस्फोट हुए है. इन विस्फोटो में मारे जा चुके छह लोगो में दो सुरक्षाकर्मी भी शामिल है. पुलिस और यहाँ घटने के समय मौजूद चश्मदीद गवाहों से पता चल रहा है की पहला बम विस्फोट मोगादिशू में हवाई अड्डे के पास हुआ. यहाँ पर हवाई अड्डे के पास स्थित एक जांच चौकी है. जहा पर मौजूद सुरक्षा अधिकारियो ने यहाँ से गुजर रहे एक वाहन को रोकने की कोशिश की थी. इसे रोकने के लिए की जा रही कोशिश के कुछ ही पालो में इस वाहन से विस्फोट हुआ.

इस वाहन से हुए इस धमाके में तिन सुरक्षाकर्मी घायल हो गए है. इसमें एक हमलावर की भी मौत हो चुकी है. यहाँ की पुलिस के एक अधिकारी ने बताया है की दूसरा बम विस्फोट जुम्मे की नमाज के कुछ ही मिनट हुआ. होड़न जिला, जो मोगादिशू के पश्चिम में है, वह पर सेइ पियानो में एक एनी जांच चौकी पर हुआ. पहले विस्फोट के करीब एक ह घंटे बाद यह दूसरा विस्फोट हुआ है. पुलिस अधिकारी ने बताया है की सुरक्षा बालो द्वारा विस्फोटक उपकरण से लैस वाहन को जांच चौकी से लेकर गुजरने वाले तिन आतंकवादीयों को मार गिराया गया था. इन आतंकवादियों को मार गिराने के बाद इसी क्रम में दो सुरक्षाकर्मियों की भी मौत हो गयी. इस हमले घायल कुछ की हालत गंभीर बताई गयी है.

मोगादिशू के आतंरिक सुरक्षा प्रवक्ता अब्दियाजिज अली इब्राहीम ने कहा की सुरक्षा बल आतंकवादियों के घटक हमले को विफल करने में कामयाब रहे है. मोगादिशू में फरवरी के महीने में भी बम विस्फोट की घटना घटी थी. २३ फरवरी को भी शुक्रवार के दिन ही दोहरा बम विस्फोट हुआ था. इस विस्फोट में ४५ से ज्यादा लोगों की मौत हो गयी और २० लोग घायल हुए थे. पुलिस सूत्रों से पता चला था कि दो कार बम विस्फोटों ने राजधानी को हिलाकर रख दिया था और लोग दहशत में थे. यह धमाका राष्ट्रपति भवन के नजदीक ही हुआ थे. जानकारी के मुताबिक आतंकी संगठन अल-शहाब ने इसे हमले की जिम्मेदारी ले ल थी. मोगादीशू हमेशा से आतंकी संगठन अल-शहाब के निशाने पर रह चूका है. अल-शहब ने कई बार मोगादिशू पर हमले किये है.

सोमालिया के आंतरकि मंत्री ने इस विस्फोट के एक दिन पहले ही राजधानी में विस्फोटक से भरे एक वाहन के देखे जाने की चेतावनी दी थी. पुलिस कैप्टन मोहम्मद हुसैन ने कहा था की पहला विस्फोट आत्मघाती कार बमबारी की वजह से हुआ जो कि सोमालिया के खुफिया मुख्यालय के पास हुआ. जबकि दूसरा धमाका संसद के मुख्यालय के पास हुआ था. जहां तैनात सुरक्षाबलों ने बंदूकधारियों को रोकने की कोशिश की थी. इन आतंकवादियों का मकसद राष्ट्रपति भवन पर हमला करना था. कैप्टन महाम्मद हुसैन का कहना था की बंदूकधारियों ने संसद मुख्यालय के पास एक जांच चौकी पर अपनी गाड़ी को तेज गति से भगाने की कोशिश की थी. मोगादिशू में लगातार हो रहे ऐसे बम हमलों की वजह से यहाँ की जनता में अशांति फैली हुई है.

पिछले साल याने अक्टूबर २०१७ में भी मोगादीशू में इसी तरह का हमला हुआ था. उस वक्त धमाके के लिए ट्रक का इस्तेमाल किया गया था. अक्टूबर में हुई धमाके में करीब ५०० से अधिक लोगों की मौत होने की पुष्टि यहाँ के प्रशासन द्वारा की गयी थी. अफ्रीका के इतिहास में यह सबसे घातक हमला बताया गया था. अमेरिका के ट्रेड सेंटर पर हुए ९/११ हमले के बाद हुए हमलों में कई लोग मारे गए. इन सभी हमलों में सोमालिया के आतंकी संगठन अल-शबाब को दोषी ठहराया गया था. इस हमले से दो महीने पहले भी मोगादिशु के मुख्य पुलिस अकादमी में अल-शहाब के एक आतंकी ने घुसकर आत्मघाती हमला किया था. इस आत्मघाती हमले में १८ पुलिसवालों की मौत हो गयी थी. यह सभी अल-शहब की ही करतूत थी.

अल-क़ायदा से जुड़े इस समूह ने १४ अक्टूबर के हमले में अपना हाथ होने से इनकार किया था. लेकिन शनिवार को किये गए इस दुसरे हमले को लेकर अल-शबाब ने यह साफ़ कर दिया था कि उसने सुरक्षाबलों और नेताओं को निशाना बनाने के लिए यह हमला किया है. यह धमाका तब हुआ था जब मोगदिशु में प्रांतीय नेता सरकार के साथ अल-शबाब के ख़िलाफ़ रणनीति बनाने के लिए जुट रहे थे. इन प्रांतीय नेताओं की बैठक रविवार को प्रस्तावित थी. अधिकारियों ने बताया था कि होटल के भीतर अगले दिन भी गोलीबारी जारी रही थी. हमले में इस्तेमाल बम इतना ताक़तवर था कि पास के गेट उखड़ गए. पुलिस ऑफिसर इब्राहिम मोहम्मद ने समाचार एजेंसी एएफ़पी से कहा कि दूसरा धमाका एक मिनीबस में हुआ था. सुरक्षा अधिकारी इब्राहिम मोहम्मद ने २० लोगों के मारे जाने की पुष्टि की थी. मारे जाने वालों में ज़्यादातर आम नागरिक थे.