Home विदेश इस मुलिम देश ने PM मोदी के साथ आकर लिया ये हाहाकारी...

इस मुलिम देश ने PM मोदी के साथ आकर लिया ये हाहाकारी फैसला

SHARE

पकिस्तान ने हमेशा आतंकवाद का साथ दिया है. और इसकी सजा अब वह भुगत रहा है. दुनिया के कई देश अब पकिस्तान की सच्चाई जानने लगे है. आतंकवाद की बहुत बड़ी जड़ पकिस्तान में है और यह देश उसे पनाह दे रहा है, उसकी मदत कर रहा है. दुनियाभर से लगातार चेतावनिया मिलने के बावजूद पाकिस्तान ने एक न सुनी. अब हालात कुछ ऐसे है की अधिकतर देश मिल कर पकिस्तान के खिलाफ खड़े होने को तैयार है. भारत और पकिस्तान के बिच विवाद अनेक सालो से चल रहा है. दोनों ही देश कश्मीर पर अपना हक़ बता रहे है.

इस सीमा विवाद में भी पकिस्तान ने भारत के खिलाफ आतंकवादियों का इस्तेमाल किया है.भारत के प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी की पकिस्तान के खिलाफ की गयी कुटनीतियाँ अब रंग ला रही है. हैरानी की बात ये है की दुनिया की सबसे ज्यादा मुस्लिम आबादी वाला देश भी अब पकिस्तान के खिलाफ खड़ा हो गया है. इस देश ने अब भारत का साथ देने का निर्णय ले लिया है. मुस्लिम जनसँख्या के अनुसार दुनिया का सबसे बड़ा देश इंडोनेशिया अब से पकिस्तान के खिलाफ भारत का साथ देगा. एक्ट ईस्ट के तहत इंडोनेशिया के विदेश मंत्री ने इंडोनेशिया के उपराष्ट्रपति महम्मद युसूफ कल्ला से मुलाकात की. और दोनों देशो में रणनीतिक साझेदारी मजबूत करने पर चर्चा हुई. इंडोनेशिया ने पकिस्तान को इशारा दिया है की वह अपनी जमीन का उपयोग आतंकवादियों को पनाह देने के लिए होने से रोके.

इंडोनेशिया भी अब पकिस्तान के खिलाफ लडाई में भारत का साथ देगा. दुनिया की महाशक्ति कहलाने वाला देश अमेरिका भी पकिस्तान को आतंकवाद के खिलाफ लड़ने के लिए आर्थिक रूप से मदत दे रहा था. लेकिन जनवरी में अमेरिका ने भी इस निधि पर रोक लगा दी है. उन्होंने इसकी वजह ये बताई की पकिस्तान आतंकवाद के खिलाफ कोई ठोस कदम नहीं उठा रहा और इस निधि का सही प्रयोग नहीं कर रहा. इंडोनेशिया की कुल आबादी के ९०% लोग मुस्लिम है. इसके बावजूद यहाँ हिन्दुओ के लिए बहुत ही आदर का वातावरण है. और ऐसे देश का पकिस्तान के खिलाफ आवाज उठाने का अंतर्राष्ट्रीय मंच पर गहरा असर पड़ेगा. भारत में राम मंदिर को लेकर धर्म की राजनीती की जा रही है, किन्तु इंडोनेशिया पर रामायण की गहरी छाप है.

इंडोनेशिया में रामकथा सांस्कृतिक विरासत का हिस्सा है. यहाँ रामलीला का मंचन भी होता है. यहाँ पर भगवान् गणेश को कला, शास्त्र और बुध्दी का देवता माना गया है.इंडोनेशिया की मुद्रा पर भी भगवान् गणेश की तस्वीर छपी गयी है. यह आशिया खंड का सबसे विविधता वाला लोकतंत्र और सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था भी है. यह के लोगो में काफी एकता दिखाई पड़ती है. एशियाई देशो के साथ मजबूत हो रहे भारत के संबंधो से भारत ना सिर्फ चीन के खिलाफ, बल्कि पकिस्तान के खिलाफ भी मजबूत हो रहा है. यह प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी की कूटनीति का ही असर है की दुनिया सबसे बड़ा मुस्लिम देश पकिस्तान के खिलाफ खड़ा हो गया है और भारत का सहयोग कर रहा है. यह भारत के लिए एक बहुत ही बड़ी जीत है.