Home एजुकेशन इस वजह के कारन दुनिया के ये पावरफुल देश भारत के लिए...

इस वजह के कारन दुनिया के ये पावरफुल देश भारत के लिए मर मिटने को तैयार है

SHARE

भारत एक विकासशील देश है. अनेवाले कुछ ही सालो में भारत एक विकसित देश बन जायेगा.लेकिन क्या आप जानते है की भारत के सबसे अच्छे दोस्त कौनसे है जिनके लिए भारत कुछ भी कर सकता है?

भारत ने कुछ ही सालो में दुनिया के अनेक देशो से गहरे सम्बन्ध बना लिए है. आज भारत के ज्यादातर देश मित्र है. भारत की कूटनीति ने अधिकतर देशो को भारत के पक्ष में कर लिया है. जीस वजह से भारत आर्थिक, सैन्य, सुरक्षा और व्यापार में तरक्की कर रहा है. भारत आज दुनिया का सबसे तेज तरक्की करने वाला देश है और सबसे तेज बढ़ने वाली अर्थव्यवस्था भी है. कई देश आज भारत की सहायता करने के लिए हर दम तैयार है. वैसे ही कुछ देश ऐसे भी है जिंके लिए भारत कुछ भी करने के लिए तैयार हो जायेगा. इन देशो से भारत की बहुत अच्छी दोस्ती है. भारत कभी भी इनसे दुरी नहीं बनाना चाहता है. इन देशो का मनन रखने के लिए भी भारत कोशिश करता रहता है.

आज जानते है ऐसे ही देशो के बारे में जिनके लिए भारत अपनी जान तक हाजिर कर सकता है.सबसे पहले देश है रूस. इतिहास गवाह है की रूस बहुत सालो से भारत का सच्चा दोस्त रहा है. भारत और रूस की दोस्ती स्कूली किताबो में भी जाहिर की गयी है. भारत पर जब भी कोई मुसीबत आयी, रूस ने सबसे पहले मदत के लिए हात बढाया है. आज तक रूस ने ही भारत को सबसे ज्यादा हथियारों की आपूर्ति की है. रूस और भारत के सम्बन्ध इंदिरा गाँधी के समय से ही गहरे हो गए है. रूस आज दुनिया की एक महाशक्ति है, यह देश इतना ताकतवर है की कोई भी देश इससे उलझने से पहले पुनर्विचार जरुर करेगा. इस देश का सैन्य बहुत ही ताकतवर है. इसीलिए भारत इससे अपने संबंधो को अच्छा ही रखना चाहता है.

भारत का दूसरा सबसे अच्छा मित्र देश है जापान. जापान हमेशा से ही भारत के पक्ष में रहा है. यह देश छोटा होने के बावजूद भी प्रगत है. जापान की अर्थव्यवस्था भी सक्षम है. भारत में हुई अधिकतर तकनिकी उन्नति के लिए जापान का बहुत बड़ा सहयोग रहा है. जापान ने आज तक भारत में सबसे ज्यादा निवेश किया है. इसके बड़े उदाहरण है सुजुकी, टोयोटा और हौंडा जैसी बड़ी कंपनिया.भारत में हुई इन्फ्रास्ट्रक्चर की तरक्की में भी जापान का बड़ा हात है. इसलिए जापान भारत का बहुत ही अच्छा दोस्त है. और भारत जापान की दोस्ती को कायम रखना चाहता है. एशिया में अपना स्थान बनाये रखने के लिए भी भारत को एशियाई देशो से अपने सम्बन्ध मजबूत रखना जरुरी है. तीसरा मित्र देश है इजराइल. इजराइल हमेशा से ही भारत के पक्ष में रहा है.

इजराइल और भारत का सबसे बड़ा दुश्मन है पाकिस्तान. और इसी वजह से ये दोनों देश एक दुसरे का ज्यादा सहयोग कर रहे है. इजराइल ने साफ़ शब्दों में ये भी कहा था की वक़्त आने पर वो कभी भी पकिस्तान का साथ नहीं देगा और आतंकवाद और पकिस्तान के खिलाफ लड़ने में हमेशा भारत का साथ देगा. इजराइल दुनिया में सबसे आधुनिक पध्दतियों से खेती करता है. इस देश को खेती में बाप माना जाता है. बहुत पहले से ही इजराइल भारत के साथ खेती में सहयोग करता आया है. भारत के प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी भारत के पहले ही प्रधान मंत्री थे जिन्होंने इजराइल की यात्रा की लेकिन इस यात्रा से दोनों देशो के सम्बन्ध बहुत ही गहरे हो गए. भारत ने इजराइल की नाराजगी को टालने के लिए फिलिस्तीन जाना भी टाल दिया.

क्योंकि फिलिस्तीन और इजराइल के सम्बन्ध अच्छे नहीं है और भारत के फिलिस्तीन दौरे से इजराइल नाराज हो जाता. इसके बाद अत है अमेरिका. अमेरिका को जाना जाता है उसकी कूटनीति और हर बात में अपना स्वार्थ ढूंडने के स्वाभाव के लिए. लेकिन अमेरिका भारत का एक अच्छा दोस्त है. अमेरिका का मानना ही की आनेवाले कुछ ही सालो में भारत एक बहुत की ताकतवर और विकसित देश होगा. और इसीलिए वह भारत से उलझना नहीं चाहता. अमेरिका भी हमेशा भारत की मदत के लिए तैयार रहता है. रूस के बाद सबसे ज्यादा हथियार अमेरिका ही भारत को निर्यात करता है. और इस देश का भारत में निवेश भी बहुत ज्यादा है. अमेरिका ने कभी भी भारत के खिलाफ कोई चाल नहीं चली है. और इसलिए भारत भी अमेरिका के लिए हमेशा ही उसका पक्ष लेगा.