Home देश खुद PM मोदी ने राहुल गाँधी को दिया ये सबसे बड़ा चैलेंज

खुद PM मोदी ने राहुल गाँधी को दिया ये सबसे बड़ा चैलेंज

SHARE

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार से कर्नाटक विधानसभा चुनाव के लिए अपना अभियान शुरू कर दिया.पीएम मोदी ने चामराजनगर में रैली को संबोधित करते हुए कांग्रेस और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर निशाना साधने का कोई मौका नहीं छोड़ा. मोदी ने यहां राहुल गांधी की उस चुनौती का भी जिक्र किया, जिसमें उन्होंने कहा था कि संसद में उन्हें १५ मिनट बोलने का मौका दिया जाए तो मोदी उनके सामने नहीं बैठ पाएंगे.

राहुल पर निशाना साधते हुए पीएम ने कहा राहुल अति उत्‍साह में कई बार अपनी मर्यादाएं भूल जाते हैं.पीएम ने कहा कि राहुल ने उन्‍हें चुनौती दी है कि अगर उनको संसद में १५ मिनट भाषण देने का मौका मिल जाए तो वे उनके सामने खड़े नहीं हो पाएंगे.राहुल की इस बात पर तंज कसते हुए पीएम ने कहा कि राहुल १५ मिनट तक बोलेंगे तो यही एक बड़ी बात होगी, आखिर वह कभी बिना कागज के १५ मिनट तक बोलकर दिखाएं तो. कांग्रेस अध्यक्ष के बयान पर पलटवार करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि राहुल नामदार हैं, हम कामगार हैं, हम नामदारों की क्या हैसियत कि आपके सामने बैठें.आपको बता दें कि कुछ दिनों पहले अमेठी के दौरे पर गए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने पीएम मोदी पर बड़ा हमला बोला था. राहुल ने कहा था कि नरेंद्र मोदी संसद में खड़े होने से डरते हैं. मुझे संसद में सिर्फ १५ मिनट भाषण देने का मौका मिल जाए तो प्रधानमंत्री सामने खड़े नहीं हो पाएंगे.

इसी विषय पर आगे बोलते हुए पी एम् मोदी जी ने कहा की मैं आपको कर्नाटक में आपकी सरकार की उपलब्धियों पर 15 मिनट तक बोलने की चुनौती देता हूं की आप हिंदी, अंग्रेजी या अपनी (मां की भाषा) मातृभाषा में बिना कागज से पढ़े बोलें.इसके साथ ही 5 बार विश्वेश्वरय्या का नाम ले लीजिएगा. बता दें कि पीएम मोदी ने कर्नाटक के चुनावी महासंग्राम में आज से धुआंधार चुनाव प्रचार शुरू कर दिया है. उन्होंने अपने भाषण की शुरुआत कन्नड भाषा से की. इस दौरान उन्होंने कहा कि कर्नाटक में बीजेपी की हवा नहीं आंधी चल रही है और येदियुरप्पा कर्नाटक के भावी सीएम होंगे.कर्नाटक में ना कानून है, ना व्यवस्था. लोकायुक्त सुरक्षित नहीं है, आम लोग कैसे सुरक्षित रह सकते हैं.उन्होंने सिद्धारमैया पर २ सीट से चुनाव लड़ने के लिए भी निशाना साधा. पीएम ने कहा, ‘मुख्यमंत्री पराजय के डर से भाग रहे हैं. दो सीटों से चुनाव लड़ रहे हैं. बेटे को बलि चढ़ाने के लिए पुरानी सीट से लड़ा रहे हैं.