Home देश चीन जल्द ही करेगा भारत को ये प्रोजेक्ट ऑफर सुषमा स्वराज का...

चीन जल्द ही करेगा भारत को ये प्रोजेक्ट ऑफर सुषमा स्वराज का जल्द ही होगा चीन का दौरा

SHARE

भारत और चीन इन दो देशों के बिगड़ते संबंधो को सुधारने के बारे में बातचीत करने के लिए भारत से हर वक़्त कोई न कोई चीन के दौरे पर जाता रहता है. अभी सामने आ रही खबर के मुताबिक़ २२ अप्रैल को भारत की विदेश मंत्री सुषमा स्वराज चीन के दौरे पर जाने वाली है.

आपको बता दे की भारत सीपीईसी के तहत बेल्‍ट एंड रोड इनीशिएटिव (बीआरआई) का विरोध करता है इसका कारण ये है की ये पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर से होकर गुजरता है. हालांकि भारत सीपीईसी और पाकिस्तान बीआरई दोनों ही उसकी संप्रभुता के खिलाफ हैं. भारत विदेश मंत्री सुषमा स्वराज को इस दौरान चीन उन्‍हें ठीक चीन-पाकिस्‍तान इकोनॉमिक कॉरीडोर (सीपीईसी) तरह के एक प्रोजेक्‍ट के लिए लुभाने की कोशिश कर सकता है. नेपाल के विदेश मंत्री प्रदीप कुमार ग्‍यावाली जब बीजिंग में मौजूद थे तब चीन के विदेश मंत्री वांग याई ने चीन, नेपाल और भारत इन तीन देशों के बीच इस इकोनॉमिक कॉरीडोर के बारे में बातें की थी. वांग याई का ये मानना है की इस तरह के सहयोग से इन देशो के विकास और समृद्धत्ता के लिये इस सहयोग का बड़ा अच्छा योगदान रहेगा और इससे आर्थिक समृद्धत्ता भी आ सकती है. इसी दौरान भारत, चीन और नेपाल के बीचवांग याई ने एक इकोनॉमिक कॉरीडोर की इच्‍छा जताई है.

सुषमा स्वराज के दौरे पर चीन उन्‍हें चीन, नेपाल और भारत के बीच एक इकोनॉमिक कॉरीडोर के लिए हामी भरवाने की कोशिश भी कर सकता है. चीनी विदेश मंत्री वांग ने ये कहा के चीन और नेपाल दोनों देशोंने पूरे हिमालय क्षेत्र में दीर्घकालिक बहुआयामी नेटवर्क को तैयार करने में अपनी सहमति जताई है. इसी समय हिमालय की खूबसूरती का आनंद उठाते हुए ट्रेन से चीन तक का सफर तय करने के सपने के बारे में प्रदीप कुमार ग्‍यावाली ने अपनी उम्मीद जताई. उन्होंने ये भी कहा के नेपाल को चीन से नेपाल के विकास से जुड़े कई प्रोजेक्‍ट्स को लेकर काफी उम्‍मीदें हैं. चीन फिलहाल बीआरआई को पाकिस्तान से बहार स्वीकार्यता दिलाने लिए बेसब्रीसे इंतजार में है और बीआरआई और इसके निर्माण कार्य को स्‍वीकारने में नेपाल भारत पर दबाव डालने की उम्मीद पर चीन है. लेकिन कई देश इस प्रोजेक्ट के बारे में चिंता दर्शाते है.