Home देश जिहादी हुए बर्बाद, PM मोदी ने लागु किया ये नया कानून

जिहादी हुए बर्बाद, PM मोदी ने लागु किया ये नया कानून

SHARE

जब से इंडियन प्राइम मिनिस्टर के खुर्सी पर नरेन्द्र मोदी विराजमान हुए हैं भारत का विकास दर तेजी से आगे बढ़ रहा हैं, बीजेपी सरकार के सत्ता में आने से पूर्व ही नरेन्द्र मोदी जीने कहा था की देश को महासत्ताक बनाने के लिए नाइ ऊंचाई पर ले जाने के लिए नये नये बदलाव समेत देश में सख्त कानून बनते दिख रहे हैं, पीएम मोदी ने इसके लिए देश को भ्रष्टाचार से मुक्त करने के लिए कई बड़े और ऐतिहासिक निर्णय भी लिए हैं, उसमे नोट बंदी जैसा फैसला भी आता हैं, साथ ही नरेन्द्र मोदी ने ने अर्थव्यवस्था बढ़ाने के लिए जीएसटी जैसा टैक्स भी इंडिया में जारी कर दिया.

देश हित को देखते हुए मोदी सरकार अब फिर एक बार सख्त कानून देश में ले आई हैं, एक ऐसा कानून जिसे देश को भी था इंतजार. इंडिया में हो रहे जबरदस्ती के लव जिहाद और धर्म परिवर्तन को लेकर NIA एजन्सिज ने कई बार कोर्ट के चक्कर काटे हैं. अपने इंसाफ के लिए कोर्ट कचेरी से लढे हैं, लेकिन हर बार कोर्ट ने लव जिहाद पर नकार दिया. तो वाही दूसरी और ऐसे कई बड़े राज्य है जहा छुप छुपाकर लव जिहाद होते आ रहे हैं. इस मुद्दे को लेकर मानवाधिकारी भी अपनी आखे बंद करके बैठता हैं. लव जिहाद और धर्म परिवर्तन एक ऐसा सहनशील मुद्दा हैं जिसपर फैसला सुनाने के लिए कोर्ट भी कतराता हैं. ऐसे मुद्दे को कोर्ट भी बंद कर न सकी ऐसा बड़ा काम बीजेपी ने कर दिखाया हैं. बीजेपी ने उत्तराखंड में लव जिहाद को ख़त्म किया हैं.

पिछली कोंग्रेस सरकार ने इस मुद्दे की तरफ देखा तक नहीं था कोंग्रेस सरकार की वजह से इतने साल लव जिहाद पर कोई कारवाही नहीं की थी, उसे अब बीजेपी ने रास्ता दिखाकर ये बड़ा काम करदिया है. कोंग्रेस ने धर्म परिवर्तन और लव जिहाद को राजकीय मुद्दा बनाकर हमेशा वोट बैंक भारती आ रही हैं, कोंग्रेस ने हमेशा धर्म और जाती का उपयोग वोट पाने के लिए किया हैं. उत्तराखंड में मोदी ने बड़े तेज और कड़े कानून लागु किये हैं. उत्तराखंड में अब से धर्म परिवर्तन करने वालों पर कड़ी नजर राखी जाएगी अब ऐसे लोगों पर मोदी सरकार की नजर हमेशा टिकी रहेगी साथ ही ऐसे लोगों के ऊपर कड़ी कारवाही भी होगी. उत्तराखंड के नियमों में अब से बदलाव जारी कर दिए हैं जो लोग गैरकानूनी तरीकेसे धर्म बदलते हैं या जबरदस्ती करके धर्म बदलवाते हैं ऐसे लोगों की अब से खैर नहीं होगी.

इस कानून में ये कहा गया हैं की अगर कोई अनुमति न लेकर धर्म बदलता हैं या फिर इस प्रकार के परिवर्तन करने के साजिश में पाया जाता हैं, उनपर सख्त कानून के चलते कारवाही करते हुए तो उसे ५ साल जेल की सजा काटनी होगी. ST, SC जाती की महिलाओं के धर्म परिवर्तन गैर क़ानूनी ढंग से किये गए तो उन्हें ७ साल जेल की सजा भुगतनी पड़ सकती हैं. बीजेपी सरकार ने ऐसे धर्म परिवर्तन को पाठिंबा न देने का आदेश दिया हैं. इस कानून में एक बड़ा और महत्त्वपूर्ण कानून बनाया हैं की जिस भी व्यक्ति को धर्म परिवर्तन करना हैं उसे परिवर्तन करने से १ महीने पहिले संबंधित एरिया के जिल्हा अधिकारी को पत्र देकर इसकी जानकारी देनी होगी. ऐसा करने से पूर्व जिल्हाधिकारी की परमिशन लेना सक्त किया हैं.

जिल्हाअधिकारी के अनुमति के बाद ही ओ व्यक्ति धर्म परिवर्तन कर सकेगा, अगर उसने ऐसा नहीं किया तो उसे धर्मपरिवर्तन करने की इजाजत नहीं दी जाएगी. अगर कोई इसके खिलाप जाकर धर्म परिवर्तन करता हैं तो उसे जबरदस्ती का धर्म परिवर्तन मन जायेगा और उसे कानून की तहेत सजा भी दी जाएगी. डरा धमकाकर, जबरदस्ती कर के या फिर पैसों का लालच दे कर धर्मपरिवर्तन किया हैं ऐसा मान कर उसे सजा का पात्र थैराया जायेगा. अगर कोई झूट बोलकर धर्मपरिवर्तन करता हैं तो उस विवाह को अमान्य ठैराया जायेगा, ऐसे विवाह को समाज अपनाएगा नहीं. अब बीजेपी सरकार का लक्ष हैं लव जिहाद को पूरी तरह ख़त्म करना, उत्तराखंड से पहिले भी कई राज्यों में ये कानून लग गया हैं उसमे मध्यप्रदेश, उड़ीसा, छत्तीसगढ़, राजस्थान, हिमाचल, गुजरात, आंद्रप्रदेश और तामुलनाडू में भी ये कानून हैं.