Home देश पेट्रोल डीजल को लेकर देशहित में मोदी सरकार का बड़ा फैसला

पेट्रोल डीजल को लेकर देशहित में मोदी सरकार का बड़ा फैसला

SHARE

अब सभी जानते है की भारत का आज आंतरराष्ट्रीय स्तर बहोत हद तक डंका बज रहा है. मोदी सरकार में भारत की ज्यादातर तरक्की नजर आ रही है. इसमें चीन को पीछे रख कर दुनिया में सबसे तेज गति से बढ़ने वाली अर्थव्यवस्था में भारत का नाम आ रहा है. अभी आयी खबर की मुताबिक मोदी सरकार ने ऐसा कदम उठाया है जिस से भारत की अरब देशो पर निर्भरता ख़तम हो जाने की उम्मीद की जा सकती है.

भारत कई स्तरों पर अपनी तरक्की कर रहा है उसमे पर्यटन हो या फिर व्यापार हो इन सब स्तरों पर भारत आज तेजी से विकसित हो रहा है. एक तरफ पाकिस्तान को कोई भी कर्ज़ा देने पर और कोई भी किसी तरह से निवेश करने पर प्रतिबंध लगाया है जब की भारत में निवेश करने के लिए सबसे ज्यादा कंपनी आ रही है. अभी सामने आ रही खबर के मुताबिक भारत ने अमेरिका से एल एन जी इम्पोर्ट किया है इससे भारत ने एक नया इतिहास रच दिया है. पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने १ दशमलख २ लाख टन की प्राकृतिक गॅस एल एन जी की पहली खेप शुक्रवार को गेल के दाभोल टर्मिनल पर प्राप्त कि है. इतना ही नहीं उन्होंने गेल की एक नयी कंपनीद्वारा ७०० करोड़ रुपियोंकी निवेश की घोषणा भी दी है. इस वजह से अरब देशो पर भारत की निर्भरता अब ख़तम हो जायेगी.

मोदी जी ने बाहर देशो में नेताओ से बातचीत कर के भारत की अर्थव्यवस्था और दोनों देशो के रिश्तो को मजबूत बनाने के लिए निवेश करने पर उनको प्रोत्साहित किया है. अरब देश भी अब समज रहे है की तेल का धंदा अब बंद हो सकता है इस लिए उन्होंने अब सोलर पार्क और पर्यटन पर ध्यान देना शुरू किया है. गेल की कंपनी का ये निवेश निर्माण दिन बैक वॉटर की सुविधा के लिए किया जा रहा है. प्रधान ने मीडिया से बात करते वक़्त बताया की गेल की एक अधिकारी ने बताया की बैक वॉटर बनने के बाद सालाना कंपनी को हर साल २२ से २४ खेप मिलेगी. गेल ने अमेरिका से एल एन जी की आयत के लिए लगभग ३२ अरब के मूल्य के २० साल के अवधि के लिए दो समज्योते किये है. प्रधान जी ने आगे बताया की भारत ने एल एन जी का सौदा अमेरिका से बहोत कम दाम में किया है इस वजह से अमेरिका और भारत के बीच व्यापार को नया बल मिलेगा.