Home देश बजट सत्र के 23 दिन बर्बाद होने पर PM मोदी ने लिया...

बजट सत्र के 23 दिन बर्बाद होने पर PM मोदी ने लिया ये बड़ा फैसला

SHARE

देश के संसद भवन का विषय अब महत्वपूर्ण विषय बन गया है. संसद भवन में हलाकि सब विरोधि पक्ष अपने प्रश्नो को लेकर बवाल मचाते रहते है इसी बारे में मोदी जी ने फैसला करना जरुरी था. संसद बजट लगातार दूसरे सत्र में तेज दिनों से ठप्प पड़ा है संसद का काम भी नहीं हो पा रहा है.

कोंग्रेस टी डी पी आ कर शोर मचाते रहते है और फिर संसद स्थगित कर दी जाती है. अगले यही सब चलता है और फिर संसद का कोई काम नहीं हो पता है. इसी कारण संसद तेज दिन बर्बाद हो रहा है इस लिए मोदी सर्कार ने एक बड़ा फैसला लिया है. संसद में चल रही नेताओंके बर्ताव से हर रोज़ आम जनता की पैसो की बर्बादी हो रही है. अभी संसद में टी डी पी अविश्वास प्रस्ताव को लेकर हंगामा कर रही है तो कोंग्रेस दलित समाज को लेकर राजनीती कर रहा है. इसी कारन हर घंटो करोडो रूपये बर्बाद होते जा रहे है लेकिन विपक्षी अपनी मोटी कमाई और वेतन लेकर निकल जाते है. ऐसे में मोदी सर्कार ने बड़ा ऐक्शन लिया है. अभी मिली खबर की मुताबिक कम नहीं तो वेतन नहीं इस आधार पर एन डी ए के संसदोने अपने तेज दिन वेतन और भत्ते न लेना का फैसला लिया है.

बुधवार को केन्द्रीय रसायन तथा उर्वरक मंत्री श्री अनंतकुमार ने कहा की संसद में गतिरोध की वजह से कामकाज नहीं हो पा रहे है इसलिए एन डी के संसद अपने तेज दिन वेतन और भत्ते का त्याग करेंगे और ये पैसा वो लोगो के लिए सेवा में लगा देंगे अगर हम ऐसा नहीं कर सकते है तो हमे अपना वेतन लेने का कोई भी अधिकार नहीं है अनंतकुमार ने कोंग्रस पर निशाना साधते हुए ये कहा की कोंग्रस गैर लोकतान्त्रिक कार्य कर है वो महत्वपूर्ण कार्य करने को रूकावट ला रहे है. जिसकी वजह से हमारे करदाताओंका धन बर्बाद होता है. संसद बजट सत्र का दूसरा हिस्सा शुक्रवार को खतम होने जा रहा है लेकिन संसद बजट का कोई भी काम न होने के बराबर ही हुआ है. संसद में विरोधी पक्ष के प्रश्नो के वजह से कोई भी काम नहीं हो पा रहा है हलाकि की इस परिस्थितियोंमें सरकार को बिना किसी बेहेस के वित्त विधेयक पास करना पड़ा. अब संसद बजट का कामकाज कब हो पाता है इसका अंदाज लगाना मुश्किल है.