Home राज्य ममता बनर्जी ने हिन्दुओं के खिलाफ दिए इस बयान से, हिंदुआ का...

ममता बनर्जी ने हिन्दुओं के खिलाफ दिए इस बयान से, हिंदुआ का फूटा गुस्सा

SHARE

भारतीय जनता पार्टी ने हमेशा हिन्दुओ का पक्ष रखा, किन्तु कांग्रेस ने हमेशा देश को तोड़ने वाली और धर्म की राजनीती की है. देश में कांग्रेस कभी हिन्दू त्योहारों के पक्ष में नहीं उतारे थे, किन्तु अब वे इस में भाग लेते नजर आ रहे है. पश्चिम बंगाल की मुख्य मंत्री और तृणमूल कांग्रेस की नेता ममता बेनर्जी ने राम नवमी के अवसर कई फरमान जारी कर दिए है. अब तक सिर्फ भा ज पा ही भगवान् राम और राम नवमी से जुड़े कार्यक्रमों का आयोजन करती थी, किन्तु अब विरोधी पक्ष भी इसमें शामिल होते नजर आ रहे है.

ममता बेनर्जी ने पश्चिम बंगाल के हर जिले में रथ यात्रा निकालने का ऐलान किया है. लेकिन साथ ही उन्होंने राम नवमी पर निकलने वाली शस्त्र यात्रा पर रोक लगा दिया है. ममता बेनर्जी ने कहा है जो लोग यात्रा निकालना चाहते है वे निकाल सकते है, किन्तु अनुमति लेने के बाद ही, और शस्त्रों के बिना निकाले. राम नवमी पर शस्त्र पूजा और शस्त्र यात्रा की पुराणी परंपरा देश में चली आ रही है. और ममता बेनर्जी के इस निर्णय से देश के हिन्दुओ में रोष पैदा कर दिया है. उनके इस बयान से भा ज पा और विश्व हिन्दू परिषद् भी भड़क गए है. पश्चिम बंगाल भा ज पा के अध्यक्ष दिलीप घोष ने इस पर कहा है की “मैं गदा लेकर निकलूंगा, और कोई रोक सके तो रोक ले.”

बिहार के भा ज पा के नेता और केंद्र के मंत्री गिरिराज सिंह ने कहा है की “धन्य है प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी और धन्य है भा ज पा जिसने ममता बेनर्जी से ब्राह्मण सम्मलेन कराया, और राम नवमी के अवसर पर वे राम रथ यात्रा का ऐलान कर रही है.” साथ ही राहुल गाँधी की तरफ इशारा करते हुए कहा की यह नरेंद्र मोदी का ही असर है जिससे राहुल गाँधी मंदिरों में भगवान् के दर्शन करते हुए घूम रहे है.” उन्होंने आगे कहा की पश्चिम बंगाल की जनता अभी भूली नहीं है की किस तरह मुख्य मंत्री ममता बेनर्जी ने दुर्गा पूजा पर लाठी चार्ज करवाया था, और सरस्वती पूजा पर भी रोक लगा दिया था. कांग्रेस ने हमेशा देश को बांटा है. और वे हमेशा यही करते आये है.

गिरिराज सिंह ने ममता बेनर्जी से सवाल किया है की “उन्होंने राम भक्तों के यात्रा में डंडे और लाठी लाने पर रोक लगाया है, किन्तु एक विशेष सम्प्रदाय के लोग ताजिया पर हथियार लेकर कैसे निकल सकते है? और यह दोगला बर्ताव है.” ममता बेनर्जी ने प्रशासकीय अधिकारीयों को सख्त आदेश दिए है की सांप्रदायिक घटना को बिलकुल ही नजरअंदाज ना करे. किसी भी तरह की घटना में तुरंत गिरफ्तारी की कार्यवाही करे. पश्चिम बंगाल में मुस्लिम मतदारों की संख्या अधिक है और राम नवमी के कार्यक्रम के आयोजन से यह वोट बात सकते है. इसीलिए राजकीय नेताओ ने यहाँ राम रहीम यात्रा के आयोजन की चाल चली है. पिछले कुछ वर्षो से भा ज पा के समर्थन से दपश्चिम बंगाल सह अन्य राज्यों में राम नवमी के उत्सव को बड़े पैमाने पर मनाया जा रहा है.