Home देश योगी जे अपनाया ये नया ब्रह्मास्त्र, अब फिरसे मोदी सरकार की...

योगी जे अपनाया ये नया ब्रह्मास्त्र, अब फिरसे मोदी सरकार की जीत तय

SHARE

उत्तर प्रदेश की योगी सरकार पिछड़ों को मिलने वाले २७ फीसदी आरक्षण में बड़ा फेरबदल करने जा रही है. माना जा रहा है कि इसका असल मकसद यूपी में सपा-बसपा गठबंधन की हवा निकालना है ताकि २०१९ के चुनाव में बीजेपी २०१४ जैसा प्रदर्शन दोहरा सके. हालांकि योगी के मंत्री ओम प्रकाश राजभर ने सरकार के इस सीक्रेट प्लान का अभी से खुलासा कर दिया है.

उत्तर प्रदेश में बीजेपी के सहयोगी दल सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के अध्यखक्ष राजभर ने कहा कि सरकार के इस कदम से सपा-बसपा गठबंधन धराशायी हो जाएगा. ओम प्रकाश राजभर ने बलिया के रसड़ा में कहा कि २०१९ के लोकसभा चुनाव से ६ महीने पहले सूबे में ओबीसी की ८२ जातियों को तीन हिस्सों में बांटने का ब्रह्मास्त्र चलाया जाएगा.ताकि हर जाती को २७ फीसदी आरक्षण का लाभ उठा सके.राजभर ने कहा कि बीजेपी की कोशिश है कि इस कदम से पिछड़ी जातियों, दलितों और मुस्लिमों के बीच गठजोड़ को तोड़ा जा सके.इस योजना जब लागु होगई तो ओबीसी कोटे के अन्दर यादवों का वर्चस्व भरी संकट में पद सकता है,जो समाजवादी पार्टी का कोर वोट बैंक है.राजनीतिक विश्लेवषकों के मुताबिक राजभर ने अपने बयान से सपा-बसपा को मात देने की बीजेपी की रणनीति का खुलासा कर दिया है.


राजभर ने अपने बयान में ये भी बताया कि ओबीसी को मिलने वाले २७ फीसदी आरक्षण को तीन भागों में बांटा जाएगा. पहला- पिछड़ा जिसके तहत ओबीसी की चार जातियां आएंगी. दूसरा- अति पिछड़ा, इसके तहत १९ जातियां और तीसरा- सर्वाधिक पिछड़ा इसमें ५९ जातियां शामिल रहेंगी.यादव जाती को इस कोटे का सबसे जादा फायदा मिल रहा है.भाजपा को २०१४ के लोकसभा चुनाव में अन्य पिछड़ी जाती के वोट का लाभ मिला था.इसके बाद २०१७ के विधान सभा में भी इसका फायदा मिला.इसका नुकसान सपा और बसपा को उठाना पड़ा था.भगवा पार्टी को हराने के लिए सपा-बसपा आगे भी गठ्बंदन कर सकती है.इसके तहत दलित और ओबीसी मतों को एक साथ साधने की रणनीति है.अभी अभी यूपी में दोनों दलों ने उपचुनाव एक साथ लडे थे.फूलपुर और गोरखपुर लोकसभा उपचुनाव में सपा-बसपा का ये राजनीतिक प्रयोग सफल रहा है.

इस गठजोड़ के दम पर ओबीसी के कुर्मी और निषाद समुदाय के मतदाताओं ने भी एकजुट होकर सपा उम्मीदवारों को वोट दिया था.दोनों सीटों पर भाजपा को हर मनानी पड़ी थी.मुख्यमंत्री आदित्यनाथ ने कहा था की वे अति आत्मविश्वास के कारण चुनाव हारे थे.और चुनाव में सपा,बसपा और कांग्रेस को ओबीसी जाती का सारे वोट मिले थे.कांग्रेस अपना दिमाग लगाके सभी जातियों को एकत्रिक करके वोट जमा कर रहा है वही अभी योगी सरकर ८२ जातियों को ३ हिस्सों में बाँटने का फैसला लेने जा रही है.इस फैसले के कारण अब कांग्रेस के वोट पर भरी असर पड़ेगा और दूसरी तरफ इसके कारण मोदी सरकर की जीत तय है.इस बारेमें ओमप्रकाश राजभर ने कहा कि अभी तक ये जातियां अपना हक पाने के लिए सपा, बसपा और कांग्रेस के साथ थीं लेकिन अब हम उन्हेंल उनका हक देकर अपने साथ लाएंगे.