Home देश राहुल गाँधी का ये गलत निर्णय, ममता बनर्जी सीधी मोदी के कदमो...

राहुल गाँधी का ये गलत निर्णय, ममता बनर्जी सीधी मोदी के कदमो में

SHARE

कोंग्रेस मुख्य न्यायाधीश दीपक मिश्रा को हटाने में लगा हुआ है. कोंग्रेस ने मुख्य न्यायाधीश दीपक मिश्रा के खिलाफ महाभियोग दिया था. ये महाभियोग कोंग्रेस ने कई और विपक्षी दलो के साथ मिलकर भारत के उपराष्ट्रपति व्यंकैय्या नायडू को पेश किया था. इसमें कोंग्रेस ने विपक्शियों के साथ एकजुटता दिखाने की भी कोशिश की.

कोंग्रेस को अपने इस महाभियोग के प्रस्ताव से दीपक मिश्रा को हटाना था लेकिन उपराष्ट्रपति व्यंकैय्या नायडू ने इस महाभियोग के प्रस्ताव को सम्मति नहीं दी. इस वजह से कोंग्रेस के साथ मिलकर महाभियोग का प्रस्ताव देने वाले विपक्षी भी अब इससे पिछे हट रहे है. इस विपक्शियोमे गठबंधन और एकजुटता का दावा करने वाली पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बैनर्जी भी शामिल थी लेकिन उपराष्ट्रपतिका फैसला आने से ममता ने इस महाभियौग को अब अपना विरोध दर्शाया है. ममता बैनर्जी ने ये कहा की कोंग्रेस द्वारा प्रधान न्यायाधीश दीपक मिश्रा के खिलाफ महाभियोग का नोटिस देना गलत था. आगे बात करते हुए उन्होंने ये भी कहा की कोंग्रेस हमारा समर्थन चाहती थी लेकिन हमने ऐसा नहीं किया. उपराष्ट्रपति व्यंकैय्या नायडू के महाभियोग नाकारने के कारण अब विपक्षी भी कोंग्रेस का साथ छोड़ रहे है.

जानकारी के मुताबिक़ आपको ये बता दे की मुख्य न्यायाधीश दीपक मिश्रा के खिलाफ महाभियोग देने पर कोंग्रेस के ही कुछ नेताओने मान्यता नहीं दी थी खबर ये भी है महाभियोग के प्रस्ताव पर कोंग्रेस के वरिष्ट नेते मनमोहन सिंग ने स्वाक्षरी तक नहीं कि थी. मनमोहन सिंग के बाद कोंग्रेस नेता सलमान खुर्शीद ने भी इस महाभियोग को अपना विरोध दर्शाया था फिर भी कोंग्रेस नेता राहुल गाँधी ने दीपक मिश्रा के खिलाफ महाभियोग उपराष्ट्रपति व्यंकैय्या नायडू को दिया था. ये प्रस्ताव देते वक़्त कोंग्रेस के साथ और भी विपक्ष मौजूद थे. कुल मिलाकर ७ पक्षोने दीपक मिश्रा के खिलाफ महाभियोग का प्रस्ताव दिया था. इनमे सी पी एम, सी पी आई, एस पी, बी एस पी, एन सी पी और मुस्लिम लीग के समर्थन के साथ महाभियोग का प्रस्ताव उपराष्ट्रपति व्यंकैय्या नायडू को दिया था ये अलग बात है की इस प्रस्ताव पर उपराष्ट्रपति ने नकार दर्शाया है.