Home देश PM मोदी के आदेश पर सेना ने शरू किया ये बड़ा ऑपरेशन,...

PM मोदी के आदेश पर सेना ने शरू किया ये बड़ा ऑपरेशन, लगाए लाशों के ढेर

SHARE

इंडियन प्राइम मिनिस्टर नरेन्द्र मोदी ने अबतक का सबसे बड़ा ऑपरेशन जारी किया हैं, जिसके चलते कमांडो ने अपना काम बखूबी कर दिखाया हैं.साथ ही लाशे हर तरफ बीछा दी हैं.

पिछले कुछ दिनों से छत्तीस गढ़ के सुखमा में नक्सल वादियों ने तहलका मचा रखा हैं. सुखमा में आतंकी नक्सलियों ने २५ से भी ऊपर के जवानों का खात्मा कर के डर पैदा कर दिया था. नक्सलवादी दिनबदिन घात लगा के जवानों को खत्म किये जा रहे थे इसे रोकने के लिए पीएम नरेन्द्र मोदी ने ओपन बयान जारी करते हुए भारतीय जवानों को पूरी खुली छुट दे रखी थी. ऐसा करने से भारतीय जवानों ने जमकर मुकाबला शुरू किया हैं, CRPF और स्पेशल कमांडो ने मिलकर नक्सलवादियों के खिलाप जमकर मुकाबला जारी रखा हैं, होली के वक्त तक इन जवानों को बहोत ही बड़ी कामयाबी मिली थी नक्सलवादियों को ख़त्म करने में सफलता मिली थी स्पेशल कमांडोज ने CRPF के जवानों की मदत से लाशों के ढेर बिछा दिए थे.

सूत्रों से मिल रही ख़बरों की माने तो भारतीय कमांडोज को छत्तीसगढ़ के नक्सलवादियों के खिलाप आज तक की सबसे बड़ी कामयाबी मिल गई हैं. बीजापुर के नक्सल वादी प्रदेश के कंकेज इलाके के ऑपरेशन में पोलिस अफसरों को १० नक्सलवादियों को पकड़ने की और मरने की कामयाबी मिली हैं. स्पेशल ऑफिसर डी.एम्.अवस्थी ने इसपर बयान देते हुए इसकी जानकारी सूत्रों को दी हैं. सूत्रों ने जानकारी जारी करते हए इस नक्सलवादियों के बारे में जवानों को बताया था जिस पर तेलंगना के ऑफिसर ने कड़ी एक्शन लेते हुए आतंकी मार गिराए. हालाकि नक्सलियों के खिलाप पुलिस ने भी जमकर कारवाही करते हुए फाइरिंग भी की ये फाइरिंग करीब देड घंटे से ऊपर चलती रही. इस ऑपरेशन में नरेन्द्र मोदी के आदेश से तेलंगाना पोलिस, स्पेशल कमांडोज के साथ CRPF की टीम भी साथ नजर आई.

इस कारवाही को देख बहोत से नक्सलवादी भाग भी गए, अब पोलिस की टीम ने इस जिले मे तलाश जारी कर दी हैं. तलाश में पोलिस ने १० नक्सलवादियों के शव बरामद किये हैं, इस प्रकार की जानकारी बिजापुर पोलिस ने शेअर की हैं, इस अभियान में पहलीबार छत्तीस गढ़ और तेलंगाना पोलिस एकसाथ आई थी जिन्हों ने सुबह के ६ बजे के बात ये मिशन चालू किया जिसमे १० आतंकियों को मारने में कामयाबी मिली. कहा जा रहा हैं की ये नक्सल वादी बेहद की खतरनाक हैं और दिमाग से काफी गुसैल हैं. ये लोग दिमागी मानसिकता से ग्रस्त भी होते हैं. इस जिल्हे में कोई भी बड़ा काम होता हैं तो ओ पोलिस का सपोर्ट लेकर ही करना पड़ता हैं नहीं तो नक्सली हमला करके मजदूरों को मार गिराते हैं. सुरक्षा देने वाले पोलिस फ़ोर्स के लिए भी ये काम आसान नहीं होता कई बार ये लोग भी नक्सलियों के हमले का शिकार बनते हैं.