Home देश PM मोदी के कमाल, इस मुस्लिम देश ने भारत के लिए किया...

PM मोदी के कमाल, इस मुस्लिम देश ने भारत के लिए किया ये बड़ा काम

SHARE

पाकिस्तान अब अपने बुरे वक़्त में चल रहा है. पाकिस्तान के सिंध प्रांत में स्थित लाल शाहबाज कलंदर दरगाह में गुरुवार को आत्मघाती बम धमाके में १०० से ज्यादा लोगों की जान चली गई जबकि करीब २५० लोग घायल हुए हैं. पाकिस्तान में एक हफ्ते के भीतर यह पांचवां आत्मघाती हमला हुआ है. पाकिस्तान में धमाके का ये कोई नया मामले नहीं है. पाकिस्तान में एक लंबे समय से धमाके होते रहे हैं.

इन हमलों के अलावा पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था भी अभी ढ़लती हुयी दिखाई दे रही है.दूसरी तरफ अमेरिका जैसे देश ने भी अपना निधिकरण भी बंद करवा दिया है.और ऊपर से ड्रोन से उनके ऊपर हमले करवा रही है.एफएटीएफ संगठन ने भी पाकिस्तान वर बंदी लगायी है जिसके कारण कोई भी धन का विनियोग कर सकता है ना ही कर्ज दे सकता है.सिर्फ अमेरिका ही हमले नहीं कर रही बल्कि चीन भी पाकिस्तान में घुस कर उन्हें मार रही है.और सऊदी अरबिया भी एक मौका नहीं छोड़ रही पाकिस्तान को बेइज्जत करने का.हर वक़्त वो पाकिस्तान की बेजती करता रहता है.सुनने मिल रह है कि सऊदी अरब के एक अधिकारी ने पाकिस्तान के निवासीयों को देश में न आने की और उन्हें कोई भी नौकरी न दे ने कि बात की है.उनका ये कहना था की पाकिस्तानी हर रोज़ ड्रग्स तस्करी में पकडे जा रहे थे.इसलिए उन्हें कदम उठाना अनिवार्य था.

सऊदी अरब ने अभी भारत देश में एक आलीशान मंदिर की नीव रखी थी.वो खुद एक भारत के लिए बड़ा तोहफा ला रहे है.और उसी के साथ एक बड़ा ऐलान भी किया.अभी मिले जानकारों के मुताबिक सऊदी अरब भारत देश के साथ द्विपक्षीय और कारोबारी सम्बधों को जादा मजबूत करने के लिए दुनिया के सबसे बड़ी तेल उत्पादक कंपनी सऊदी अरामको महारष्ट्र में सबसे बड़ी रिफाइनरी कंपनी लगाने का फैस कर दिया है.भारतीय रिफाइनरी कम्पनियों का समूह और सऊदी अरामको करीब ४४ अरब डोलर के धन के विनियोग से इस पेट्रो केमिकल प्रोजेक्ट को पूरा कर सकता है.इससे पहले ऐसा बड़ा निवेश अभी तक पूरी दुनिया कभी नहीं हुआ था.महारष्ट्र में बनाने जा रहा इस प्रोजेक्ट में सऊदी अरामको और रत्नागिरी रिफाइनरी एंड पेट्रोकेमिकल (आरआरपीएल) का बराबरी का हिस्सेदारी होगी इसका भी ऐलान कर दिया है. आरआरपीएल,इंडियन ऑइल,हिंदुस्तान पेट्रोकेमिकल और भारत पेट्रोलियम का संयुक्त उपक्रम होगा.ये कहना गलत नहीं होगा की मोदी सरकर की ये बड़ी सफलता कहा जाये क्यूंकि इस प्रोजेक्ट की क्षमता सालाना १.८ करोड़ टन उत्पादन की होगा.

कहा जाता है की भारत में लगने वाला ये पेट्रोकेमिकल प्लांट दुनिया के सबसे बड़े रिफाइनरी प्लांट से एक होगा.ये प्रोजेक्ट को देख कर बाकि बड़े देश के आखें फटी के फटी रह जाएँगी.सऊदी अरबिया के उर्जा मंत्री खालिद अल फली एक अपने बयां में कहा है की “चाहे कितना भी प्रोजेक्ट हो,इससे भारत में निवेश करने की इच्छा ख़तम नही होगी,हम निवेश और कच्चे तेल की सप्लाई के लिए भारत को तहजीह देते ही रहेंगे.देखा जाये तो कांग्रेस के वक़त भारत देश के सम्बन्ध सऊदी अरब के सक्त बने नहीं थे.पर मोदी सरकर में भारत और सऊदी अरब के संबंध को बड़े सशक्त हुए है.सऊदी अरामको को कच्चे तेल के कुल ५० फीसदी भारत के इस संयंत्र में प्रक्रिया करेगा.सऊदी अरब का ये मकशद है की वो भारत में इराक को पीछे छोड़कर सबसे बड़ा सप्लायर बनाना चाहता है.क्यूँ की इराक ने सऊदी अरब को २०१७ में तेल के निर्यात में पीछे छोड़ दिया था.