Home देश PM मोदी के लन्दन दौरे से भारत को हुआ ये सबसे बड़ा...

PM मोदी के लन्दन दौरे से भारत को हुआ ये सबसे बड़ा फायदा

SHARE

साल 2014 में पीएम बनते ही मोदी ने सभी देश के दौरे करने शुरु किये थे.जिसमे पीएम मोदी जी ने बड़ी हिम्मत दिखाई थी.जो काम कांग्रेस नहीं कर पायी वो सब काम मोदी जी कुछ साल में ही करते दिखाई दे रहे है.अभी अभी लन्दन दौरे पर से लौटे हुए पीएम ने आते ही एक बड़ी खबर सुनाई है.

लन्दन दौरे के दरमान खुद रानी अलीजाबेत और प्रिंस चार्ल्स से मिले.कहा जा रहा है की खुद प्रिंस चार्ल्स ने पीएम मोदी को निजी तौर पर आमंत्रण दिया था.वर्ल्ड बैंक के बाद अभी आयएम्एफ ने भी एक अच्छी रिपोर्ट दी है.एक बड़ी खबर के नुसार अंतरराष्ट्रिय मुद्रा कोष याने की आयएम्एफ वर्ल्ड इकनोमिक आउटलेट रिपोर्ट के अप्रैल २०१८ के आकड़ों के अनुसार भारत का सखल घरेलु उत्पाद मतलब GDP २०१७ में २ दशमलव ६ ट्रिलियन था.उसके बाद भारत ने फ्रांस को पीछे छोड़ते हुए दुनिया छटी बड़ी अर्थव्यवस्था बन चुकी है.इन बड़ी अर्थव्यवस्था में भारत के ऊपर अमेरिका,चीन,जापान,जर्मनी और ब्रिटेन है.परंतु भारत देश ने GDP के आकड़ों में सबसे तेज गति से बढ़नेवाला देश बन चूका है.अंतरराष्ट्रीय मुद्राकोष (आयएम्एफ) ने अगले दो वर्षों में ग्लोबल विकास दर्ज ३ दशमलव ९ फीसदी रहने की उम्मीद जताई है.२०११ के बाद से ग्लोबल ग्रोथ की ये राफ्टर सबसे जादा है.मजबूत राफ्टर और अनुकूल बाज़ार स्थिति के चलते देश का विकास और बेहतर होने वला है.आयएम्एफ साल में दो बार विश्व अनुमान जरी करता है.कहा जा रहा है की चीन की विकार दर माध्यम अवधि में गिर सकती है.

इस अनुमान के अनुसार भारत चीन को पछाड़ देगा.जो इन दो सालों में फीसदी ६ दशमलव ६ और ६ दशमलव ४ रहेगी.आयएम्एफ ने कहा की पिछले सरकर के कारण १० साल में सखल घरेलु उत्पाद में भारत पर बहोत कर्जा है.तो वही मोदी जी ने सही निति के माध्यम से तेजी से कम करने का प्रयास हो रहा है.आयएम्एफ के शीर्ष अधिकारी का कहना है भारत अपने शैन्य स्थर पर अपने राजकोशिए घाटेये को ३ प्रतीषद और क़र्ज़ के उनुपत को ४० प्रतीषद को माध्यम स्थान पर लाने का प्रयास कर रहा है.उनका मानना है की उन्हें लगता है की ये लक्ष्य सही है और मोदी सरकर इस लक्ष्य को पा सकती है.पिछले बरी वर्ल्ड बंद ने भारत के अर्थव्यवस्था को लेके एक अच्छी रिपोर्ट दे थी.लगातार पिछले दो साल से सबसे बड़ी आर्थिक एजेंसी से जबरदस्त रिपोर्ट आ रही है.और कांग्रेस अभी भी मोदी राज के सरकर को लेकर अर्थव्यवस्था डूबने के बयान दे रहा है.