Home देश PM मोदी ने अचानक ही माल्या पर लिया ये अबतक का सबसे...

PM मोदी ने अचानक ही माल्या पर लिया ये अबतक का सबसे बड़ा फैसला

SHARE

भ्रष्टाचार के खिलाफ कई बड़े कदम उठाये है. विजय मालिया ने भी भ्रष्टाचार किया. इसीलिए वैह अपनी अवेध संपत्तियों से हाथ धो बैठे. विजय मिलिया पर ९००० करोड़ रुपए से ज्यादा का कर्जा है.

Related image

भारतीय बैंक का ९००० करोड़ से अधिक कर्जा करने वाले को मोदीजी अच्छा सबक सिखाया है. ६०० करोड़ की सुपर यार्ड को कब्ज़ कर लिया है माल्टा में. इस वजह उनके क्रू मेम्बर को १ मिलियन की सैलरी ना चुकाने बताया गया. विजय माल्या २०१६ में भारत को छोड़कर चले गये थे. फिलहाल वैह लंदन में है. भारत ने विजय माल्या को भगोड़ा करार कर दिया है. जानकारी मिली है की यार्ड में ४० से ज्यादा लोग स्वर थे. व्हे लोग कुछ भारतीय, ब्रिटेन और पूर्व यूरोप से थे. इन लोगो बट्टे सितम्बर से तनख्वा नहीं मिल्ली. इस यार्ड का नाम इंडियन इम्प्रेस है जिसे माल्टा पोर्ट छोड़ना मना किया है. क्रू और बाकि लोगो ने विजय माल्या को रक्कम चुकाने की मौहलत दी कित्नु उन्होंने उनका वादा नहीं किया.

Related image

नियमो के अनुसार ६१५००० डॉलर की कीमत ले लिए है. लेकी अभीभी बड़ी रक्कम चुकाना बाकि है. माल्या ने इस विषय पर कोई जवाब नहीं दिया है.  माल्या के वकील का कहना है की ” वैह धोकदाद्दी में शामिल नहीं है.” माल्या के सुनवाई के समय उनके वकील यह भी कहते है की भारत के पास ऐसे कोई भी साबुत नहीं है जिससे साबित हो की माल्या धोखादाद्दी में शामिल है. लंदन के वेस्टमिनिस्टर मजिस्ट्रेट्स कोर्ट में भारत ने माल्या पर सुनवाई की लेकिन साबुत पेश नहीं कर पाए. इस विषय में १८ अप्रैल को फिरसे माल्या को गिरफ्तार किया था. लेकिन ३ घंटे में ही उनकी ज़मानत हो गयी. ३ ओक्टुबर को फिरसे मनी लौन्देरिंग के केस में गिरफ्तार किया था. कित्नु इस बार आधे घंटे में बेल मिल गयी.

Related image

भारत ने फरवरी २०१७ में ब्रिटेन से माल्या के शिफारिश की थी. दोबारा मार्च में अरुण जेटली ने प्रोटोकॉल तोड़कर लंदन में मुलाकात की. इस बार विजय माल्या को भारत को सोपने की बात की थी. पिछले साल यूके ने बताया था की भारत की सिफारिश को मोहर लगा दी है. ३१ जनवरी २०१४ तक बैंक का करीब ६९६३ करोड़ का कर्जा बताया था. व्याज के साथ माल्या को अब ९४३२ करोड़ रुपए चुकाने होंगे. सीबीआई का कहना है की ९०० करोड़ के लोन से २५४ करोड़ रुपए निजी चीजों के खर्च किये है. किंगफ़िशर एयरलाइन्स अक्टूबर २०१२ में बंद हो गयी थी. २०१४ में इस कंपनी का फ्लाइंग परमिशन बंद किया गया था. सर्कार ११.५ % प्रति साल की व्याज की वसूली करने को कहा था. विजय माल्या की अबकी कम्पनीज पर भी रोक लगायी जा चुकी है.