Home राज्य PM मोदी ने किया अपना वादा पूरा, महाराष्ट्र में लागु हुआ ये...

PM मोदी ने किया अपना वादा पूरा, महाराष्ट्र में लागु हुआ ये सख्त कानून

SHARE

इंसान अपनी उन्नति के बारे सोचता रहा और पर्यावरण की सुरक्षा के बारे में मानो भूल ही गया है. आज हर तरफ प्रदुषण की छाया दिखाई पड़ती है. इस में जल और वायु प्रदुषण मुख्य समस्या है. इंसान उसी धरती का विनाश करने लगा है जिसने उसे जन्म दिया. इस धरती को आज हानिकारक वायु और प्रदूषित पानी ने घेर लिया है. एक और बड़ी समस्या है प्लास्टिक. प्लास्टिक ऐसा पदार्थ है जो कई सालो के बाद भी अपघटित नहीं होता है. इसलिए दुनिया में आज तक उत्पादित सारा प्लास्टिक दुनिया आज भी मौजूद है. इस प्लास्टिक पर महाराष्ट्र शासन ने एक बड़ा निर्णय लिया है.

महाराष्ट्र की सरकार ने पॉलिथीन को लेकर एक कदा कानून बनाया है और पॉलिथीन के इस्तेमाल पर निर्बंध लगा दिया है. यहाँ की फडणविस सरकार ने इस निर्बंध को रविवार, १८ मार्च से लागू कर दिया. इसके तहत प्लास्टिक थैलियो और प्लास्टिक की बोतल के इस्तेमाल पर निर्बंध होगा. इसमें थैलिया, थर्मकोअल और प्लास्टिक की प्लेट, कप, कटोरे और चम्मच सह कई चीज़े शामिल है. फडणविस सरकार के अनुसार दूध की थैलिया और पानी की बोतल इस्तेमाल में रहेंगी, लेकिन इसके लिए ग्राहकों को पैसे जमा करने होंगे, और इस्तेमाल के बाद प्लास्टिक बोतल को वापस कर ग्राहक अपने पैसे वापस ले सकते है. किन्तु जल्द ही इस पल्स्टिक को भी बैन कर दीया जायेगा. रविवार को गुढी पाडवा, महाराष्ट्रीय नव वर्ष से यह नियम लागू कर दिया गया है.

सरकार द्वारा सदन को सूचित क्या गया है की प्रतिबन्ध में प्लास्टिक का उत्पादन, भण्डारण, इस्तेमाल, बिक्री, आयता और परिवहन शामिल है. प्रतिबन्ध का उल्लंघन करने पर २५,००० रूपए का जुरमाना और ३ साल की कैद की सजा भी होगी. महाराष्ट्र के पर्यावरण मंत्री रामदास कदम ने सदन को बताया की प्लास्टिक की थैलिया, थेर्मकोअल, डिस्पोजेबल कप, प्लेट, चम्मच, पस्टिक पाउच और पैकेजिंग पर निर्बंध होगा. लेकिन दवा, वन बागवानी उत्पादन, ठोस कचरा, पौधों को लपेटने के लिए इस्तेमाल प्लास्टिक और निर्यात उद्देश्यों के लिए विशेष आर्थिक क्षेत्र में प्लास्टिक के इस्तेमाल के लिए इस प्रतिबन्ध से छुट होगी. देश में दिल्ली समेत १७ राज्यों में प्लास्टिक और प्लास्टिक उत्पादनों पर पहले से ही निर्बंध जारी है. और गंगा नदी में भी प्लास्टिक फैकने पर निर्बंध है. इसी तरह महाराष्ट्र में जारी किया गया यह कानून पर्यावरण के लिए बहुत ही लाभदायक साबित होगा.