Home देश मायावती के सामने अखिलेश परेशन हुए है

मायावती के सामने अखिलेश परेशन हुए है

SHARE

समाजवादी पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक होने जा रही है. साल २०१९ के लोकसभा चुनाव को लेकर पार्टी की अहम फैसले इस बैठक मे लेगी. खबर के अनुसार बता दे की समाजवादी पार्टी की यह राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक २८ जुलाई शनिवार को लखनऊ में होने जा रही है.

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक़ बता दे की बसपा से सीटों के तालमेल पर इस बैठक में मंथन किया जाएगा. इसके अलावा किन सीटों पर पार्टी को चुनाव को लड़ना चाहिए, बैठक में इस पर रिपोर्ट पेश होगी. सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव पहले ही कन्नौज से और मुलायम सिंह यादव के मैनपुरी से चुनाव लड़ने का एलान कर चुके है. इन दोनों जगहों के नेताओं को लखनऊ बुला कर वे मीटिंग भी कर चुके है.

बता दे की समाजवादी पार्टी अगला लोकसभा चुनाव बीएसपी के साथ मिल कर लड़ेगी, ये लगभग तय है. हाला कि इसमें कांग्रेस शामिल होगी या नहीं इस पर संशय बना हुआ है. सपा और बसपा अगर मिलकर चुनाव लड़ती है तो ये निश्चित तौर पर बीजेपी की मुश्किलें बढ़ा सकता है. बताया जा रहा है की पार्टी के राष्ट्रीय नेतृत्व के सभी पदाधिकारी राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में शामिल होने के लिए आ रहे है.

खबरों की माने समाजवादी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम ने बताया कि, “राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक २८ जुलाई को लखनऊ में होने जा रही है. चूंकि २०१९ का लोकसभा चुनाव नजदीक आ रहा है, इस लिहाज से बैठक में कई महत्वपूर्ण फैसले लिए जा सकते है. विभिन्न दलों के साथ गठबंधन और सीटों को लेकर चर्चा और निर्णय हो सकतें है.” बैठक मे, बसपा से गठबंधन पर मुहर लग सकती है साथ ही सहयोगी दलों के नाम और उनका कद तय हो सकता है.

दरअसल अखिलेश यादव कांग्रेस के बदले आरएलडी से चुनावी समझौते के पक्ष में है, लेकिन मायावती गठबंधन में कांग्रेस को भी साथ रखना चाहती है. समाजवादी पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव भी कह चुके है कि बसपा से गठबंधन के बाद उनकी केंद्र की राजनीति में कोई दिलचस्पी नहीं है. उनका कहना था कि मायावती केंद्र की राजनीति करेंगी और वे राज्य की राजनीति से संतुष्ट है.