Home विदेश इस अरब देश में मचा मातम, प्रिंस को मारी गोलिया, सारी दुनिया...

इस अरब देश में मचा मातम, प्रिंस को मारी गोलिया, सारी दुनिया सन्न

SHARE

सऊदी अरब के युवराज मोहम्मद बिन सलमान को रॉयल पैलेस में हुए हमले में घायल होने की खबर आई है.ऐसे में उस हमले के बाद सऊदी के क्राउन प्रिंस कही नजर नहीं आये.अब मिडिया के सूत्रों के मुताबिक़ उनको हमले के दौरान दो गोलियां लगी है.सऊदी के युवराज अब वहा के जनता के लिए एक अहम रूप में होने के कारण वहा उनका  तेजी से लौटने का इन्तेजार किया जा रहा है.

सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान के पैलेस  पर २१ अप्रैल को बड़ा हमला हुआ था.हमले के कारण पैलेस का बड़ा नुकसान होने की खबर भी आई थी.लेकिन हमले के बाद से ही सऊदी के क्राउन प्रिंस इंटरनेशनल मिडिया से गायब हो चुके थे.रिपोर्ट के मुताबिक़ सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस की घायल होने की खबर भी मिली. सऊदी के मिडिया ने यह खुलासा किया की सऊदी के क्राउन प्रिंस को दो गोलियां लगी है.लेकिन इस बात पर यकीन होना मुश्किल है.इसीके वजह से घायल होने की वारदात सामने आई है.सुन्त्रो के कई रिपोर्ट के मुताबिक़ स्वयं आले सऊद के राजकुमारों ने तो मोहम्मद बिन सलमान के मारे जाने की खबर वायरल की थी.सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस की मारे जाने की खबर को उनके अधिकारीयों ने झुटा साबित किया.इस खबर के कारण दुनिया की मिडिया में हलचल मची हुई थी.

मीडिया के सुन्त्रो का कहना है की अगर क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान घायल नहीं है और उनका स्वास्थ्य पूरी तरह से अच्छा है,तो उनको मीडिया के सामने आकर बयान देना चाहिए. पश्चिम मीडिया का कहना है की सऊदी के क्राउन प्रिंस का एक महीने से ज्यादा समय गुजर चूका है.इसीलिए उनका सार्वजनिक जीवन से दूर रहना स्वाभाविक नहीं है.पश्चिम मीडिया सऊदी के युवराज को लेकर तरह तरह की बाते भी कही और लिखी भी जा रही है.मोहम्मद बिन सलमान इस से पहले तक अलग अलग चैनलों को इंटरव्यू देने में विख्यात थे. मीडिया का कहना है की ऐसा कोई दिन नहीं गुजरता था जब उनकी कोई तस्वीर या उनके बारे में शब्द नहीं लिखे जाते थे.लेकिन २१ अप्रैल के उस हादसे के बाद सऊदी क्राउन प्रिंस किसी प्रेस कांफेरंस या किसी मंच पर नजर नहीं आये.सऊदी राजकुमारों का कहना है की उन्हें अमेरिकी सैनिक किसी सुरक्षा स्थान पर ले गए हो और उनपर इसराइल में भी इलाज चल रहा हो.

एक वरिष्ठ अरब टीकाकार के मुताबिक कहना है की सऊदी युवराज मोहम्मद बिन सलमान ने पिछले दो सालों से अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रम्प और व्हाइट हाउस के अधिकारियों को इस बात के लिए राज़ी करने का प्रयास कर रहे थे कि वॉशिंग्टन ईरान के साथ हुए समझौते से बाहर निकल जाए और इसी संदर्भ में उन्होंने दो बार अमेरिका का दौरा भी किया.लेकिन ट्रम्प के इस परमाणु के बड़े फैसले के बाद भी सऊदी युवराज शांत है सऊदी अरब के राजकुमार मोहम्मद बिन सलमान का नाम दुनिया के शाही रईसों में आता है.न्होंने यह भी कहा कि मैं गांधी या मंडेला नहीं हूं. मैं गरीब शख्स भी नहीं हूंबता दें कि सऊदी के प्रिंस फ्रेंच शैटो के मालिक हैं और इसे दुनिया का सबसे महंगा घर है.इन नए युवराज कारण काफी बदलाव हुए है.

सऊदी के क्राउन प्रिंस कहते है की दौलतमंद होना एक निजि बात है.सका देश की राजनीति से कोई वास्ता नहीं है. उन्होंने कहा, ‘अपने निजी खर्चों और संपत्ति की बात करूं तो मैं एक अमीर आदमी हूं. मैं संपत्ति के आधार पर गरीब न. मैं गांधी या मंडेला भी नहीं हूं.’ सऊदी में राजनीतिक उथल-पुथल के बीच प्रिंस देश में बड़े सामाजिक बदलाव की कोशिश के लिए चर्चित हैं. उन्होंने यह भी कहा कि वह अपनी आय का एक हिस्सा चैरिटी पर खर्च करते हैं. उन्होंने कहा कि वह अपनी आय का 51 प्रतिशत लोगों पर और 49 प्रतिशत खुद पर खर्च करते हैं.सऊदी के युवराज ने डोनाल्ड ट्रम्प से भी बात कर चुके है.स मुलाकात में दोनों देशों के प्रतिद्वंद्वी माने जाने वाले ईरान को लेकर चर्चा भी हुई.

माना जा रहा है कि सलमान यूएस राष्ट्रपति के सामने अपने देश में किए गए सामाजिक बदलावों और अपनी विदेश नीति का जिक्र भी किया.उन्होंने अपने देश में होनेवाले सामाजिक बदलावों की तरफ इशारा करते हुए कहा कि एक इंसान के तौर पर मैं मानता हूं कि पुरुष और महिलाओं में कोई फर्क नहीं है. उन्हें बराबर सम्मान और बराबर अधिकार मिलना चाहिए. सलमान ने गद्दी संभालते ही महिलाओं के परिधानों पर लगे प्रतिबंधों पर छूट दी और सामाजिक जीवन में भागीदारी को बढ़ावा दिया.ऊदी अरब के शाह सलमान ने आज अपने 31 वर्षीय छोटे बेटे मोहम्मद बिन सलमान अल-सउद को युवराज नियुक्त कर दिया था. इसका मतलब यह है कि मोहम्मद तेल संपदा से समृद्ध इस खाड़ी देश के अगले शाह हुए थे.नए युवराज जनवरी, 2015 में सलमान के शाह बनने से पहले बहुत ज्यादा चर्चित नहीं थे.

सऊदी एक ऐसा देश जहां पर सिनेमा नहीं देखा जाता है, कॉफी हाउस में सिर्फ पुरुष ही जा सकते हैं वहां शाही परिवार के एक सदस्य ने अब कुछ अलग हटकर काम करने का फैसला किया है ताकि समाज में महिलाओं को आगे बढ़ाया जा सके. उसकी कोशिश है कि महिलाओं को ज्यादा से ज्यादा रोजगार से जोड़ा जाए और उनकी सामाजिक जिंदगी बदलाव हो.सऊदी अरब के डिप्टी क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान (31) मानना है कि अब समय आ गया है कि यहां कि महिलाओं को आगे बढ़ाया जाए और उनको भी रुढ़िवादिता से निकालकर आजादी से जीने का आधिकार दिया जाए. सऊदी अरब के लोग हर साल लाखों-करोड़ों रुपया विदेशों में जाकर मौज-मस्ती में खर्च कर देते हैं लेकिन उनके अपने ही देश में इन सब चीजों की आजादी नहीं है.