Home देश इस वजह से टूटेंगे ये पुराने देश और अगले 10 सालों में...

इस वजह से टूटेंगे ये पुराने देश और अगले 10 सालों में बनेंगे ये 5 नये देश

SHARE

दुनिया में आज कुल १९५ देश है. विभिन्न देशो में अलग अलग जाती धर्म सम्प्रदाय के लोह स्थित है. लेकिन आनेवाले कुछ वर्षो में कुछ देश भी बनने की सम्भावना है.

दुनिया के १९५ देशो में से १९३ संयुक्त राष्ट्र के सदस्य है और बाकि २ देश सदस्य नहीं है बल्की आब्जर्वर स्टेट है. वे है थे होली सी और थे स्टेट ऑफ़ पलेस्तैन. दुनिया में समय समय पर नए देश बनते आये है और भविष्य में ऐसे देश बनेंगे और टूटेंगे, और कुछ मिलकर नए देश बनकर दुनिया के सामने आएंगे. आज दुनिया के कई देशो में अलग अलग विषय पर विवाद चल रहे है. कुछ देश के लोग वहाँ की सरकार से खुश नहीं है तो कुछ अपनी जाती धर्म के अनुसार अपना अलग देश चाहते है. ऐसे में कुछ देश टूटकर अलग देशो में बटने की सम्भावना बताई जा रही है. वही कुछ देश आपसी समेट से एक भी हो सकते है. आज हम आपको बताएँगे ऐसे ही कुछ देशो के बारे में.

सबसे पहले यूनिफाइड कोरिया. उत्तर कोरिया और दक्षिण कोरिया को मिला कर एक देश बनाने की बात वैसे तो सुनने में बहुत अजीब लगती है. एक तरफ उत्तर कोरिया जहा पर सख्त प्रशासन के साथ यहाँ के लोग बाहरी दुनिया के बारे में ना के बराबर जानकारी रखते है. यहाँ के लोगो को इंटरनेट के इस्तेमाल की अनुमति नहीं है. ऐसा कुछ करने पर मौत की सजा तक हो सकती है. वही दूसरी तरफ दक्षिण कोरिया दुनिया के सबसे विक्सित देशो में से एक. यदि यह दोनों देश एक हो जाये तो इसका फायदा दोनों देशो को होगा और साथ ही दुनिया पर जो उत्तर कोरिया की ओर से परमाणु हमला होने का खतरा है वह भी टल जायेगा. लेकिन इस सब को होने से रोकने वाली सबसे बड़ी शक्ति है उतार कोरिया के किम जोंग उन. अगर दुनिया की महाशक्तियां कोशिश करे तो यूनिफाइड कोरिया मुमकिन हो सकता है.

अमेरिका का राज्य टेक्सास भी अपनी आज़ादी चाहता है. वो अमेरिका से जुड़ा नहीं रहना चाहता. यहाँ के लोगो ने अपने स्वतंत्र देश की मांग की है. यह राज्य शुरू से ही अपने फैसले खुद लेता आय है. इसे अकेले तारे वाला राज्य भी कहा जाता है. टेक्सास एक जर्मनी से भी बड़ा और ताकतवर राज्य है, जीस वजह से उसे रोक पाना बहुत ही मुश्किल है. साल १८४५ में रिपब्लिक ऑफ़ टेक्सास अमेरिका से जुड़ गया और अमेरिका का २८वा राज्य बन गया. २००९ में टेक्सास के तत्कालीन गवर्नर रिक पेर्री ने भी यह सुजाव रखा था की टेक्सास को अमेरिका से अलग हो जाना चाहिए. टेक्सास की ४०% जनता भी यही चाहती है की टेक्सास अमेरिका से अलग हो जाये. यदि ऐसा होता है तो अमेरिका में एक नया देश देखने को मिल सकता है.

दक्षिण औसेस्टिया को आप एक आज़ाद देश कह सकते है या फिर जॉर्जिया का एक राज्य भी कह सकते है. साल १९९१ में औसिस्टिया ने अपने आप को जॉर्जिया से आज़ाद घोषित कर दिया था. लेकिन यह देश अभी भी पूरी तरह आज़ाद नहीं हो पाया है. औसिस्टिया के लोगो ने कई बार खुद को जॉर्जिया से पूरी तरह अलग करने की कोशिश की हाउ किन्तु वे असफल रहे है. इस राज्य एक एक बहुत ही ताकतवर मित्र है रूस. रूस इस आज़ादी की लड़ाई में औसिस्टिया को पूरा समर्थन दर्शा रहा है इसलिए आनेवाले सालो में औसिस्तिया एक अलग देश बन सकता है. यदि औसिस्टिया के लोगो से पुचा जाए तो वे इसे एक अलग और आजाद देश बताते है लेकिन जॉर्जिया के लोग इसे अभी भी जॉर्जिया का ही एक राज्य कहते है.

स्पेन वैसे तो दिखने में सुरक्षित और अच्छा देश लगता है किन्तु ऐसा नहीं है, यहा के लोगो में काफी अशांति है. यहां बेरोजगारी की समस्या बहुत ही गंभीर है, यहाँ के लगभग २४% लोग बेरोजगार है. यहाँ के केटलोनिआ के लोग स्पेन से अलग होना चाहते है. २००९ से २०११ के दरम्यान, केटलोनिआ के ५२ देशो में जनमत लिया गया, उस वक़्त यहाँ के लगभग सभी ने केटलोनिआ की आज़ादी के लिए वोटिंग की. स्पेन की सरकार सभी नतीजो को नजरअंदाज करती आयी है. लेकिन यहाँ की जनता बहुत ही बड़ी मात्रा में कोशिशे कर रही है और सरकार कभी ना कभी जनता की मांग को पूरा करना पड़ेगा. इसलिए अब जल्द की यूरोप के नक़्शे पर एक नया देश दिखाई देगा. वही उत्तर स्पेन के लोग भी बास्को नामक अपना एक अलग देश चाहते है.

सोमालिया देश का एक प्रदेश सोमाली लैंड अपने आप को सोमालिया से अलग मानता है. किन्तु उसे अभी तक आजाद घोषित नहीं किया गया है. इस देश का अपना स्वतंत्र चलन है, अपनी सेना है और अपनी खुद की सरकार भी है लेकिन इसे अंतरराष्ट्रिय स्तर पर एक स्वतंत्र देश होने की मान्यता नहीं मिल पायी है. यूनाइटेड किंगडम इंडिपेंडेंस पार्टी यूरोप की ऐसी पहली राजकीय पार्टी बनी जिसने सोमालिया लैंड की अजादी का समर्थन किया. १९९१ में सोमली लैंड ने अपने आप को आज़ाद घोषित कर दिया था. सोमाली लैंड के लोग अभी भी खुद को एक आज़ाद देश का दर्जा मिलने के लिए कोशिश कर रहे है. इसी तरह अगर और देश सोमाली लैंड की आज़ादी के लिए उसके पक्ष में खड़े रहे तो जल्द ही यह एक स्वतंत्र देश बन कर सामने आयेगा.