Home विदेश एक्शन में आया दुबई, अचानक ही इस देश के हवाई अड्डे पर...

एक्शन में आया दुबई, अचानक ही इस देश के हवाई अड्डे पर किया कब्ज़ा

SHARE

यमन में लगातार संकट बना ही हुआ है. सरकार समर्थित सैनिकों और हूती विद्रोहियों के बीच झड़पे पिछले साल शुरु हो गई है.पिछले कई महीनों से सऊदी अरब के नेतृत्व में यमन पर हवाई हमलों की बारिश हो रही है.इसके कारण यमन के राष्ट्रपति अब्दरब्बू मंसूर हादी को सऊदी अरब में रहना पड़ रहा है.रिपोट के मुताबिक़ बीबीसी संवाददाता का कहना है कि यमन के ज़्यादातर हिस्सों पर विद्रोहियों का कब्ज़ा है.

संयुक्त अरब अमीरात के बलों ने यमन के दूरस्थ द्वीप सोकोतरा पर अपना कब्जा कर लिया है.ऐसा यमनी सरकार के रिपोर्ट के मुताबिक़ कहा गया है. संयुक्त अरब अमीरात ने चार सैन्य विमान में 100 से अधिक सैनिकों को तैनात करने के बाद यमन के द्वीप पर यह कब्जा किया .अधिकारी ने अल जज़ीरा से कहा की संयुक्त अरब अमीरात ने यमनी सरकार की उपस्थिति के बावजूद भी सोकोतरा द्वीप के हवाई अड्डे और बंदरगाह पर संयुत अताब अमीरात कब्जा कर लिया है. संयुक्त अरब अमीरात जो सोकोतरा में कर रहा है वह आक्रामकता का एक अधिनियम है. आधिकारिक के रिपोर्ट के मुताबिक, सऊदी अरब ने सोकोतरा को जांचकर्ता भेजने का वचन दिया है.सयुक्त अरब अमीरात ने हाल ही में 99 वर्षों तक द्वीप पट्टे पर दिया है और वहां सैन्य अभियानों को पूरा करने की पुष्टि की है.

अल जज़ीरा की रिपोर्ट के मुताबिक कहा गया की यमन का सोकोतरा यूनेस्को विरासत स्थल यहाँ 60,000 लोगों का स्थान है. यह द्वीप 3,000 मीटर लंबा है, जो लड़ाकू विमानों और बड़े सैन्य विमानों के लिए आदर्श है. वहीँ द्वीप के निवासियों ने कहा कि उन्होंने यहाँ संयुक्त अरब अमीरात का ध्वज और क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन ज़ैद अल नह्यान की तस्वीरें भी देखी है , जिन्हें अक्सर एमबीजेड के नाम से जाना जाता है.गुरुवार को अमीराती सैनिकों की तैनाती ने दगहर द्वारा रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण द्वीप की दुर्लभ यात्रा के साथ मिलकर काम किया. गुरुवार को उनका स्वागत करने के लिए सैकड़ों द्वीपसमूह इकट्ठे हुए.मीडिया ने यमन पर थोपे गये सऊदी अरब के हमलों की तीसरी बरसी के अवसर पर यमनी सेना द्वारा सऊदी अरब के तीन हवाई अड्डों पर मीज़ाइल फ़ायर किए जाने की सूचना दी है.

यमनी सेना और स्वयं सेवी बल की मीज़ाइल यूनिट ने सऊदी अरब के तीन हवाई अड्डों पर मीज़ाइल बरसा कर रियाज़ के ख़ैमे में हंगामा मचा दिया है.यमनी सेना ने सऊदी अरब में रियाज़ के मलिक ख़ालिद हवाई अड्डे सहित अन्य स्थानों पर सात मीज़ाइल फ़ायर किए.हर न्यूज़ एजेन्सी की रिपोर्ट के अनुसार यमनी सेना ने सऊदी अरब के तीन वर्षीय हमलों का जवाब देते हुए सऊदी अरब की राजधानी सहित कई स्थानों पर मीज़ाइल फ़ायर करके अपनी शक्ति का एक बार फिर प्रदर्शन किया है.यमनी सेना की मीज़ाइल यूनिट ने घोषणा की है कि अंसारुल्लाह जनांदोलन के प्रमुख के वादे के अनुसार सऊदी अरब के मलिक ख़ालिद हवाई अड्डे सहित विभिन्न स्थानों पर सात मीज़ाइलों से हमला किया गया.सऊदी अरब ने संयुक्त अरब इमारात, अमरीका, ब्रिटेन और फ़्रांस के भरपूर समर्थन से मार्च 2015 से यमन पर व्यापक हमले शुरु किए.

सूचनाओं के अनुसार यमनी सेना ने एच-2 बुरकान मीज़ाइलों द्वारा सऊदी अरब के अंदर अपने लक्ष्यों को स्टीक निशाना बनाया है जबकि सऊदी अरब का डिफ़ेंस सिस्टम उनको रोकने में बुरी तरह नाकाम रहा किन्तु सऊदी अधिकारियों ने दावा किया है कि यमनी मीज़ाइलों को हवा में ही मार गिराया गया है.जिसके बाद से उसने इस देश का हवाई, ज़मीनी और समुद्री परिवेष्टन कर रखा है किन्तु यमनी जनता का प्रतिरोध एेसी हालत में तीसरे वर्ष में दाख़िल हो गया है कि सऊदी अरब अपने किसी भी लक्ष्य को यमन में प्राप्त नहीं कर सका है.वास्तव में यह कहा जा सकता है कि सऊदी अरब और उसके घटकों ने सोचा था कि कुछ ही दिनों में सनआ पर क़ब्ज़ा कर लेंगे किन्तु यमनी जनता ने अपने प्रतिरोध द्वारा यमन को सऊदी अरब के लिए दलदल बना दिया है.

यमन का युद्ध सऊदी अरब के लिए दलदल सिद्ध हो गया है और अब वह इस दलदल से निकलने के लिए जितने भी हाथ पैर मारेगा उतना ही दलदल में धंसता चला जाएगा.सऊदी अरब नीत गठबंधन ने यमन में विद्रोहियों के कब्जे वाली राजधानी सना में रक्षा मंत्रालय पर आज तड़के दो हवाई हमले किए. प्रत्यक्षदर्शियों और विद्रोही मीडिया ने बताया कि इसमें किसी के हताहत होने की खबर नहीं है. प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि हवाई हमले के बाद भी सना के ऊपर युद्धक विमान चक्कर लगाते रहे. हुती विद्रोहियों के मीडिया संगठन अल-मसीरा ने भी दो हवाई हमलों की खबर दी है. खबर में किसी के हताहत होने के बारे में नहीं बताया गया है.सऊदी नीत गठबंधन ने पहले भी रक्षा मंत्रालय पर हमले करके इसे भारी क्षति पहुंचाई थी लेकिन यह ताजा हमला सऊदी अरब और हुती विद्रोहियों का समर्थन करने वाले ईरान के बीच बढ़ रहे तनाव के बीच हुआ है.

रियाद हवाई अड्डे के निकट हुती विद्रोहियों द्वारा दागे गए मिसाइल को सऊदी सुरक्षा बलों द्वारा नष्ट करने के बाद सऊदी गठबंधन ने इस सप्ताह की शुरुआत में यमन की सीमाओं को बंद कर दिया था.विद्रोहियों ने इस बंद के प्रतिक्रिया स्वरूप सऊदी अरब और उसके सहयोगी संयुक्त अरब अमीरात पर और हमले करने की चेतावनी दी थी.अदेन: यमन के दक्षिणपूर्वी शाबवा क्षेत्र के पास सऊदी अरब के नेतृत्व में लड़ाकू विमानों के हवाई हमलों में कुल 12 हौती विद्रोही मारे गए. एक समाचार एजेंसी ने एक सैन्य अधिकारी के हवाले से बताया, “दक्षिणपूर्वी शाबवा प्रांत और अल-बायदा के बीच सड़क पर सऊदी अरब के नेतृत्व में किए गए हवाई हमलों में ये मौतें हुईं.”सूत्रों के मुताबिक, क्षेत्र में हुए इस हवाई हमले में कई सैन्य वाहन नष्ट हो गए और कुल 12 हौती विद्रोहियों मारे गए. यमन के एक अधिकारी के अुनसार, ईरन समर्थित हौती विद्रोही सऊदी अरब समर्थित यमन सरकार के सुरक्षाबलों को देश के दक्षिणपूर्वी भाग में बढ़ने से रोकने के लिए अतिरिक्त सेना भेजी थी.