Home देश कर्णाटक चुनाव से ठीक पहले कांग्रस ने लिए इस फैसले से सारा...

कर्णाटक चुनाव से ठीक पहले कांग्रस ने लिए इस फैसले से सारा देश गुस्से में

SHARE

बीजेपी जब से केंद्र में सरकार टी तौर पर आई हैं. सभी राज्यों में इलेक्शन की जित दर्ज कर रही हैं. तो वाही दूसरी तरफ कोंग्रेस की सभी जगेह से हार का सामना करना पड रहा हैं. अब कर्णाटक चुनाव के नजदीक आते ही कोंग्रेस ने लय हैं एक बेहूदा कदम.

ऐसे में कोंग्रेस ने चुनाव से पूर्व एक बड़ा ही गलत कदम उठाया हैं. कोंग्रेस के चलते राज में कर्नाटक की दुर्दशा हो गई हैं, कर्णाटक अपराधियों के लिए एक अच्छी जगह बन गया हैं तो वाही अपराधियों के लिए जन्नत से कुछ कम नहीं हैं. गुनाह बढ़ने लगे हैं सरे आम क़त्ल हो र्राहे हैं. बड़े बड़े गुनाहों को अंजाम दिए जा रहे हैं. लूटमार जैसे कई प्रकार सामने आने लगे हैं. ऐसा अपराध करनेसे पूर्व अपराधी एकबार भी नहीं सोच रहे हैं, अपराधी गलत काम करने डरते भी नहीं हैं. इन सब की जड़ हैं कोंग्रेस. इतने बड़े पक्ष का अगर साथ हो तो कोई कैसे डरेगा भला, इन अपराधों के चलते कर्णाटक में कोंग्रेस फिर एक बार विवादों में घिरी नजर आ रही हैं. कर्णाटक के मुख्यमंत्री सिद्धरमैया ने  कई बड़े अपराध किये जाने वाला आरोपी तथा बुरा तरीका अपनाकर बड़ा हुआ व्यवसाई तथा नेता को कोंग्रेस में शामिल किया जाने वाला हैं.

ये अपराधी और कोई नहीं बल्कि अशोक खैनी हैं. अशोक खैनी नंदी इन्फास्ट्रक्चर के प्रमुख हैं. साथ ही खैनी दक्षिण से विधायक के तौर पर कम सँभालते हैं. इन जनाब के ऊपर हत्या करने के संगीन जुर्म से लेकर धोका धडी और डरा धमका कर जमींन कब्ज़ा करने जैसे कई बुरे आरोप भी हैं. सूत्रों के अनुसार कहा ये भी जा रहा हैं की अशोक खैनी को पार्टी में लेने से कई कोंग्रेस के बड़े नेता नाराज भी हैं. कर्णाटक राज्य के उर्जा मंत्री डी.के.शिवकुमार ने इन के कोंग्रेस में शमिल न होने के लिए सभी तरीकेसे कोशिश की लेकिन मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने इनके खिलाप कोई भी एक्शन नहीं ली बल्कि पार्टी में शामिल होने के लिए हरी झंडी दिखाई. और इन्हें दक्षिण में विधायक बना दिया गया, हाल/कि ये बात कोंग्रेस के ही कई नेतओंको पसंद नहीं आई.

अब शिवकुमार पे भ्रष्टाचार के आरोप हैं. जब नोट बंदी के समय में शिवकुमार के घर छापे मारी की थी तब लगबघ ३०० करोड़ रुपयों के पास की अघोषित मालमत्ता हैं. और ये एक भ्रष्टाचारी नेता भी हैं. इस समय CBI ने शिवकुमार के पास से करीब करीब ४ अरब रुपयों की सम्पत्ति जप्त कर ली थी. कोंग्रेस का कहना हैं की शिवकुमार को लेने से पूर्व पार्टी मेसे सभी नेता से बातचीत कर सलाह ली थी लेकिन कई ऐसे वरिष्ट नेता हैं जिन्होंने शिवकुमार को पार्टी में लेने से मन किया था उनमे सोमशेकर, विधायक मुनिराथना, बसवराज के समेत पार्टी के सभी नेता ने इस पापी को लेने से नाकारा था. इस बात को लेकर पार्टी के सभी ने सोचविचार कर शिवकुमार को पार्टी में न लेने के लिए कोंग्रेस के अध्यक्ष राहुल गाँधी को पत्र भी लिखने की बात की हैं.

अशोक खैनी को कर्णाटक के कई बड़े रास्ता बनाने के कॉन्ट्रैक्ट दिए थे, अशोक के ऊपर लगे वारदाद की जाँच करने को लेकर एक सक्रीय टीम भी बनाई हैं एक संयुक्त समिति भी बनाई थी. इस समिति ने इन लोगों के अपराध को देखकर कारवाही करने की शिफारिश भी की हैं. लेकिन कोंग्रेस ने खुद उनपर कोई कड़ी कारवाही नहीं की हैं. कोंग्रेस को सिर्फ अपने वोटों से प्यार हैं. वोटों के अलावा किसी से कोई तालुकात नहीं रखते इस प्रकार के वोट पाने के लिय कोंग्रेस किसी भी हदतक गिर सकती हैं. सुतों के जानकारी के तहेत पता चला हैं की लिगायत समाज के वोटों के लिए अशोक जैसे अपराधी को पार्टी में जगह दी गई हैं. सिद्धारमैया को लगता हैं की अशोक को साथ लेकर प्रचार करने से लिगायत समाज का भी साथ मिलाकर वोटों की प्राप्ति कर सकते हैं.

इस गन्दी करतूतों को देखते हुए बीजेपी नेता ने कड़ी शब्दों में निंदा की हैं. तो वाही दूसरी त्रिफ R.अशोक का इस मुद्दे पर कहना हैं की कोंग्रेस देश को डूबने वाली पार्टी हैं इन के साथ कोई जायेगा तो कोंग्रेस उसे भी ले डूबेगी. केन्द्रीय मंत्री प्रकाश जावडेकर ने भी इसकी आलोचना की हैं. कहा हैं की मैसूर और बैंगलूरू के आसपास के इलाखे की साडी जमीने हडपने पर अशोक के ऊपर कड़ी कारवाही करते हुए सिद्धारमैया को उन्हें जेल भिजवाना चाहिए था. लेकिन ओ उन्हें अपने साथ लेकर घूम रहे हैं. इसपर नरेन्द्र मोदी के बात का जिक्र करते हुए जावडेकर ने कहा की अब नरेन्द्र मोदी जीकी बात सच साबित होती दिख रही हैं उन्होंने कहा था की सिद्धारमैया की सरकार मतलब सिद्धा रुपयों की सरकार हैं. इस प्रकार की टिपण्णी भी की हैं.