Home देश कांग्रेस का फंसा दांव

कांग्रेस का फंसा दांव

SHARE

कांग्रेस ने सत्ता में रहते हुए हिन्दुओं को बदनाम करने के लिए हर तरीके का इस्तेमाल किया।आप जानते है की मालेगाव ब्लास्ट में कर्नल पुरोहित जैसे देशभक्त जवान को फ़साने की कोशिश की.कांग्रेस ने अपने सत्ता में जैसे हिन्दू आतंकवाद गढ़ लिया था. कांग्रेस ने समझौता ब्लास्ट में असीमानंद को फसाया बल्कि यह प्लान पाक आतंकीयोने किया था.

कांग्रेस के ऐसे कई कारनामे है.कांग्रेस अपने वोटबैंक के लिए हमेशा मुसलमानों का तुष्टिकरण करता आया है.कांग्रेस ने गुजरात के जाबांज अफसर डीजी वंजारा को भी ऐसे ही फसाया था.कांग्रेस ने सोहराबुदद्दीन शैख़ फर्जी एनकाउंटर बोलकर अफसर को प्रताड़ित किया था.इसमें सीबीआई का गलत इस्तेमाल कर फ़साने की साजिश रची थी.

आखिर कोर्ट का वंजारा को लेकर फैसला सामने आया है.मिली खबर के मुताबिक हाय कोर्ट ने सोहराबुद्दीन शैख़ मुठभेड़ मामले में विवादस्पद अधिकारी डीजी वंजारा और गुजरात और राजस्थान के वरिष्ठ अधिकारियों को बड़ी राहत मिली है. हाय कोर्ट ने निचली अदालत का फैसला बरकरार रखते हुए पांचो आरोपियों को बरी कर दिया गया.क्योंकि निचली अदालत ने पहले गुजरात एटीएस प्रमुख डीजी वंजारा,गुजरात के आईपीएस रपंडियां,एनके अमिन,राजस्थान के आईपीएस और पुलिस कांस्टेबल राठौड़ को बरी कर दिया था.

पहले निचली अदालत से मिले पांचो अधिकारीयों की रहत को कायम रखते हुए उच्च न्यायलय ने गुजरात आईपीएस अग्रवाल को बरी कर दिया।इससे पहले इस अधिकारी की बरी करने की याचिका निचली अदालत ने खारिज की थी.इस केस को लेकर न्यायमूर्ति बदर ने कहा था की इन पांचो अधिकारियों की आरोपमुक्त करने की चुनौती देनेवाली याचिका में कोई दम नहीं है.साल २००५ के कांग्रेस में सीबीआई ने इसे फर्जी एनकाउंटर बताते हुए वंजारा समेत  अधिकारीयों को इस केस में फसाया था.

सोहराबुद्दीन और उसकी पत्नी को मुठभेड़ में मार गिराने के बाद गुजरात पुलिस ने दवा किया था की उनके सबंध शेख दंपति के आतंकवादियों से थे.इस केस में २०१४ से लेकर २०१७ के बिच ३८ में से १५ लोगों को आरोपमुक्त किया है.आरोपमुक्त में १५ पुलिस अधिकारी है और बीजेपी अध्यक्ष्य अमित शाह का समावेश है.

वीडियो:अटलजी ने देखा था जो सपना, मोदी जी कर रहे है पूरा

अटलजी ने देखा था जो सपना, मोदी जी कर रहे है पूरा

Posted by NAMO TV on Friday, August 17, 2018