Home देश किसानों को लेकर एक्शन में आये PM मोदी, दिया ये बड़ा तोफहा

किसानों को लेकर एक्शन में आये PM मोदी, दिया ये बड़ा तोफहा

SHARE

आपको बता दे की अब ऐसी जानकारी सामने आ रही है की जिस वजह से आप को उसपर यकिन नहीं होगा. भारत के प्रधानमंत्री ने हाल ही में ये निर्णय लिया है की चीनी पर सेस लगाया जाए. दरसल जी एस टी कौंसिल की अगली मीटिंग में चीनी पर सेस लगाने का मुद्दा रखा जा सकता है.

सरकार कमाई के लिए एक ऐसी बुराई को अपना हथियार बनाने जा रहा है जिसे ख़त्म करने के लिए भारत के पंतप्रधान नरेंद्र मोदी खुद अपनी पीठ ठोक चुके थे. चीनी पर सेस लगाने के विषय पर जी एस टी कौंसिल में निर्णय बन सकता है. सरकार का ये मानना है की ये सेस माध्यम से मिली धनराशि का उपयोग गन्ने की पेराई पर दी जाने वाली सबसीडी चुकाने में किया जा सकता है. आपको बता दे की जब जी एस टी लागू हो गया था तब जुलाई २०१७ में ही कई सेस ख़त्म हो गए थे. इस वजह से टैक्स स्ट्रक्चर आसान हो जाने की उम्मीद प्रधानमंत्री मोदी ने जताई थी और ये भी माना जा रहा था की इससे कई सेस ख़त्म हो जाएंगे. जानकारी के मुताबिक़ इस पर अभी तक कोई भी अंतिम निर्णय नहीं लिया गया है लेकिन राज्यों को इस विषय के चर्चा के बारे में बता दिया है.

चीनी की कीमत आज तेज दिन काफी गिर चुकी है जिस वजह से चीनी मिलो को परिशानियों का सामना करन पड़ रहा है. चीनी मीलों के लिए कॉस्ट की भरपाई मुश्किल हो रही है और किसानो की गन्ना बकाया की समस्या भी बढ़ रही है. इन समस्याओं को काम करने के लिए ही सरकार सेस लगा रहा है ऐसे माना जा रहा है. सरकार ने इससे पहले चीनी मीलों पर प्रति क्विंटल १२४ रुपयों का सेस लगाया था और उसका बोझ कन्झ्युमर्स पर डाल दिया था. सेस माध्यम से मिली राशि को फ़ूड मिनिस्ट्री के द्वारा मैनेज किये जा रहे शुगर डेवलपमेंट फंड में भेजा जाता है जिसका इस्तेमाल मीलों की आधुनिकीकरण और विस्तार में किया जाता है. आपको बता दे की जुलाई में रिजीम लागु होने के साथ अधिकाँश इंडायरेक्टेड टैक्स उसी में लागु होने के कारण फिलहाल आज सेस लागू नहीं है.