Home देश कोर्ट ने मुस्लिमों को लेकर ऐसा क्या फैसला सुनाया है, की RSS...

कोर्ट ने मुस्लिमों को लेकर ऐसा क्या फैसला सुनाया है, की RSS वाले नाचने लगे

SHARE

ताजमहल हमेशा विवादों के घेरों में रहा है.जिसपर हमेशा मुसलामानों का वर्चस्व रहा है.खबर में अक्सर  ताजमहल ये तेजोमहालय बना रहता है.ताजमहल में अगर आप कोई मंत्र ये पूजा पाठ करेंगे तो आपको गिरफ्तार किया जाएगा।अखिलेश के सरकार में तो भगवा वस्त्र पहना गया शख्स भी बाहर निकाला जाता था.

अब वक्त बदल गया है क्योंकि खुद यूपी के मुख्यमत्री भगवा वस्र पहनते है.एक वक्त था जब ताजमहल में हिन्दुओं को पाबंदी थी। लेकिन साथ ही ताजमहल जैसे पर्यटन स्थल पर खुलेआम नमाज पढ़ा जाता था.शुक्रवार को जुम्मे के लिए ताजमहल बंद रखा जाता था.वहा कोई रोक भी नहीं लगी थी.लेकिन इस बार आखिरकार सुप्रीम कोर्ट ने मुसलमानो के खिलाफ चौकानेवाला फैसला सुनाया है.इस फैसले के कारण कई वामपंथियों की धड़कने रुकी है.

ताजमहल दुनिया का एक सातवा अजूबा है.इसीलिए कोर्ट ने मुसलामानों के खिलाफ ऐतिहासिक फैसला लिया है.सुप्रीम कोर्ट ने ताजमहल में नमाज पढ़ने पर रोक लगा दी है.कोर्ट ने साथ में कहा की कई ऐसी जगह है जहा नमाज पढ़ा जा सकता है तो ताजमहल पर रोक लगाईं है.इससे पहले भी राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने भी ताजमहल पर नमाज पढ़ने पर रोक लगाने की मांग की थी.

आरआरएस के एक समिति की मांग थी की अगर परिसर में नमाज पढ़ने की इजाजत दी जाए तो साथ ही हिन्दुओं को भी शिव का पाठ करने दिया जाए.दुनिया का सातवा अजूबा रहा ताजमहल शुक्रवार को बंद रहा करता था.जिसका विरोध लम्बे समय से किया जाता था.कई समाजों का मानना भी है की वहा पहले शिव का मंदिर था.

साथ ही हिंदूवादी संघटनों के कार्यकर्ताओं ने ताजमहल की परिसर में शिव चालीसा पढ़ने की कोशिश की थी लेकिन वह पर रोक लगाईं गयी.देर सवेर अब वक्त बदलने लगा है.दशकों से चली आ रही लापरवाहियों पर रोक लगने लगी है.इस फैसले के कारण अब ओवैसी समेत कई कट्टरपंथियों की आँखे निकल आयी है.जो उन्होंने सपनों में भी नहीं सोचा था.सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले का पुरे देश ने स्वागत किया है। दशकों से आयी सरकार में हिम्मत नहीं थी क्योंकि उनको वोटबैंक की चिंता सताती थी.

ये वीडियो भी देखे जिसमे हुकुमदेव जी ने PM मोदी समेत सभी को रुला दिया