Home देश क्यों कुमारस्वामी ने घुसपेटियों को लेकर विपक्ष को धो डाला

क्यों कुमारस्वामी ने घुसपेटियों को लेकर विपक्ष को धो डाला

SHARE

असम में नागरिकता रजिस्टर का अंतिम ड्राफ्ट जारी होने के बाद अवैध प्रवासी और घुसपैठियों का मुद्दा एक बार फिर सियासी बहस के केन्द्र में आ गया है. अभी मिली जानकारी के मुताबिक़ बता दे की आम आदमी पार्टी के बागी नेता कुमार विश्वास ने इस मुद्दे पर बीजेपी के स्टैंड का समर्थन किया है.

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक़ बता दे की कुमार विश्वास ने एक के बाद एक लगातार तीन ट्वीट करते हुए कई महत्वपूर्ण सवाल उठाए है. कुमार विश्वास ने कहा है कि क्या वोट बैंक के लिए अवैध घुसपैठियों के पक्ष में खड़े होने वाले लोग सचमुच में देश के प्रतिनिधि है. कुमार विश्वास ने पूछा कि सरकारों के रहते हुए भारत में अवैध घुसपैठिए आए कैसे ? भारतीय नागरिकता को स्वाभिमान रहने दीजिए, देश है धर्मशाला नहीं.

खबरों की माने भारतीय जनता पार्टी ने कहा है कि जिनके नाम अंतिम ड्राफ्ट में नहीं है उन्हें नागरिकता साबित करने का पर्याप्त मौका दिया जाएगा. बीजेपी का कहना है कि कांग्रेस और टीएमसी समेत कुछ राजनीतिक दल वोट बैंक की राजनीति की वजह से एनआरसी के ड्राफ्ट का विरोध कर रहे है. एनआरसी मुद्दे पर देश के कई नेता बयान दे रहे है कुछ एनआरसी के पक्ष में है तो कुछ विरोध में है.

बता दे की कुमार विश्वास यही नहीं रुके, उन्होंने अपने अगले ट्वीट में लिखा है की, ”दूसरे देशों के वीजा भर लेने के लिए लपलपाकर लाइनों में लगने वाले इन लोगों को अपने देश की नागरिकता का जरा भी विशिष्टता-बोध नहीं है ? हद है, इसमें क्या राजनीति ? जो अपने हों उन्हें गले लगाओ जो राज्य-केंद्र सरकारों की राजनैतिक-लिप्साओं और अकर्मण्यताओं के कारण घुस गए उन्हें विदा दो.”

जानकारी के मुताबिक़ कुमार विश्वास ने आगे कहा, इतने गंभीर मुद्दे को वोट बैंक के लिए इस्तेमाल न करें. नेता ५-१० साल में चले जाएंगे लेकिन देश था, है और रहेगा. कांग्रेस, ममता बनर्जी, मायावती एक सुर में बीजेपी पर हमला बोला है. विश्वास के अलावा भारतीय जनता पार्टी के तेलंगाना से विधायक राजा सिंह ने नैशनल रजिस्टर ऑफ सिटिजन मुद्दे पर बयान दिया है.