Home देश खुद मुस्लिम महिलाओने ही PM मोदी से की ये अनोखी मांग

खुद मुस्लिम महिलाओने ही PM मोदी से की ये अनोखी मांग

SHARE

मोदी सरकार ने नोटबंदी की. काला धन को बचाया और सही जगह पे इस्तेमाल किया. अब मोदीजी को जनसँख्या के बारेमे सोचना है. उन्होंने ट्रिपल तलाक का मामला भी सुलझा दिया.

ट्रिपल तलाक की दिक्कत अब सुलझ गयी है. मुस्लिम कानून की तहत लडको ४ शादियाँ करने छूट मिल्ली है. इसकी वजहसे देश की आबादी दिन  ब दिन बढती चली जा रही है. कुछ लोग औरत को बच्चा जिन्ने की मशीन ही समज बैठे है. मुस्लिम लोगो के कुछ कानूनों की वजहसे मुस्लिम मह्लियाओं को काफी परेशानी होती है. अब पता चलता है की औरतको सिर्फ बच्चा जिन्ने के लिए इस्तेमाल करते है. मोदीजी के नियत्रण प्रयत्नों की वजहे त्ट्रिपल तलक अब हट चूका है. अब मुस्लिम लड़के सिर्फ एक ही शादी करेंगे. अगर उन्हें तलाक चाहिए तोह कोर्ट द्वारा ले सकते है. उनमे यह प्रथा की अगर कोई पति ३ बार तलक बोल दे तोह वह अपनी से अलग होकर दूसरी शादी कर सकता है. इस प्रथा के बंद होने के बाद मुस्लिम औरते मोदीजी को अपने भाई समान मानती है. मोदीजी का तहे दिल से धन्यवाद करना चाहती है.

एक न्यूज़ चैनल पर हो रहे डिबेट में मुस्लिम महिलायों से पूछा गया की अब ऐसे कोंसी मांग है जो मोदीजी पूरा कर सकते है. कुछ औरतों ने कहा” हमे बच्चे जिन्ने की मशीन समझा जाता है. इससे आप मुस्लिम जनसँख्या को रोकने के लिए कोई बिल लाये. इससे देश की जनसँख्या रुकेगी. भारत के न बढने का कारन सिर्फ उसकी जनसँख्या है. ” वह चाहती है की “जनसँख्या नियंत्रण” का बिल लाये. ताकि माहिलाओ को रहत मिलले. कुछ महिलाओं ने यह भी कहा की आर एस एस मुस्लिम महिलओं के लिए लड़ रहा है. यह काफी ख़ुशी की बात है.यह जरूरत पड़ने पर महिलायें आर एस एस  भी जाएँगी. वहा भी वह काम करेंगी. एक तरफ राहुल गाँधी आर एस एस को आतंकवाद संघटन कहते है. और वाही मुस्लिम महिलायों का कहना है की वैह भी आर एस एस भी जाएँगी.