Home देश जहाँ पूरी विश्व ने मानी हार, वही इस क्षेत्र में भारत को...

जहाँ पूरी विश्व ने मानी हार, वही इस क्षेत्र में भारत को मिली बड़ी वैद्यान्निक जीत

SHARE

भारत एक ऐसा देश है जहा सभी चीज़े पहेले ही हो चुकी है. भारत में लोग सबसे  बुधिमान है. कित्नु यह किसीके समझ के बहार है. भारत के पूर्वज काफी नामांकित है.

Related image

जहा अमेरिका सबसे पहेले चाँद पे पंहुचा ऐसा मन गया है कित्नु भारत के ऋषि मुनि पहेले ही पहुच गए थे. भारत के लोग सिर्फ गोरी चमड़ी से इतने प्रभावित है की उन्हें कुछ दिखाई नहीं देता. भारत के ऋषि मुनिओं ने बरसो पहेले की अनुसन्धान का हम करते है तथा हमे यह चीज़े काल्पनिक लगती है. कित्नु ऐसा नहीं है. सबसे पहेले भारत के पूर्वज लोगो ने जो भी लेख लिखे थे वह सभी सच है. हमे लगता है भारत के ऋषि मुनि सभी झूट है. सबको लगता है की  पश्चिमी देशो ने कंप्यूटर बनाया है. किन्तु इसकी खोज के पहेले से ही भारत के महर्षि पाणिनि ने किया था. यह चीज़ अब नासा भी मानता है. पाणिनि दुनिया के सबसे बड़े सांस्कृति व्याकरण शाश्त्र के नियामिक आचार्य थे.

Image result for ancient indian saint

इनका ज़न्म पंजाब के शालातुला में हुआ था जो तत्कालीन उत्तर पश्चिम के भारत गंधार में हुआ था. इनका जीवन ५२० बी सी से ४६० इसी तक माना जाता है.  इनके व्याकरण को अश्त्धायी कहते है. इन्होने भाषा की शुद्ध प्रयोग की सीमा का धारण किया था.  इनके योगदान को नासा भी मानता है. सबसे सरल और सटीक भाषा है संस्कृत. अप्रैल १९९३ में पाणिनि को फर्स्ट मन विथोउट हार्डवेयर घोषित किया था. संकृत व्यकरण सबसे बड़ी देन है. पाणिनि ने बहुत सरलता से अपना काम किया है. उन्होंने संस्कृत को प्रयोग में लाया है. आधुनिक  जीवन में ऐसे कई चीज़े है जो हम नहीं जानते. पाणिनि ने बहुत बड़ा योगदान देकर साबित किया है की भारत के ऋषि मुनियों से बढकर कोई नहीं था. कंप्यूटर की पहेली खोज भारत ने ही की थी.