Home विदेश ट्रम्प का मजाक उड़ाकर, PM मोदी की तारीफ़ में ये क्या कह...

ट्रम्प का मजाक उड़ाकर, PM मोदी की तारीफ़ में ये क्या कह बैठे फ्रांस के राष्ट्रपति

SHARE

भारत के प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी आये दिन दुनियाभर के लोगों के दिल जीत रहे है. उनकी कार्यप्रणाली, काम के प्रति लगाव और देश सेवा की चाह उन्हें औरो से अलग साबित करती है. अपने कार्यकाल में उन्होंने कई देशो की यात्रा की, देश के हित में अनेक समजौते किये. विश्व के कई नेता भी पी एम मोदी की तारीफ़ कर रहे है. उन्होंने बहुत ही कम समय में देश की आर्थिक उन्नति की तरफ बड़े कदम उठाये है. भारत की अर्थव्यवस्था दुनिया की सबसे तेजी से बढ़ रही अर्थव्यवस्था बन चुकी है. ऐसे में यदि फ्रांस के राष्ट्रपति उनसे प्रभावित न होते तो ही आश्चर्य की बात थी.

फ्रांस के राष्ट्रपति इम्मानुएल मैक्रॉन कुछ दिनों पहले भारत की यात्रा पर आये हुए थे. उन्होंने उस समय प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी से भेट की. दोनों देशो में कई मुद्दों पर महत्वपूर्ण समजौते भी हुए. इम्मानुएल मैक्रॉन ने अंतरराष्ट्रिय सौर गटबंधन के सम्मलेन मेंहुए अपने भाषण में भारत के प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी की जम कर तारीफ़ की है. मैक्रॉन ने पी एम मोदी की उपस्थिति में कहा की प्रधान मंत्री जी, आपने एक सपने देखा था और हमने उसे पूरा कर दिखाया. उन्होंने यह बात सौर गटबंधन के बारे में कही है. २ साल पहले यह सिर्फ एक विचार था, हम सब ने मिलकर इस पर तेजी से काम किया और आज हम इसमें बड़ा बदलाव देख सकते है. उन्होंने पी एम नरेंद्र मोदी के इस कल्पना की तारीफ़ की.

मैक्रॉन ने इस वक़्त अप्रत्यक्ष रूप से अमेरिका के अध्यक्ष डोनाल्ड ट्रम्प को ताना भी दिया. पेरिस जल वायु समजौते से पूछे हटने पर ट्रम्प की चुटकी ली. दुनिया में अमेरिका एकलौता देश है जो अब इस समजौते का हिस्सा नहीं है. दिसम्बर २०१५ में करीब २०० देशो ने पेरिस जल वायु समजौते पर हस्ताक्षर किये थे. इस समजौते का मुख्य मकसद था पर्यावरण को दूषित करने वाले गैसो की उत्सर्जन में कमी लाना और वैश्विक तापमान में हो रही वृध्दि को २ डिग्री सेल्सियस की सीमा में रखना था. दुनिया में सौर उर्जा के उपयोग को बढ़ावा देने के लिए रविवार को पहले अंतरराष्ट्रिय सौर गटबंधन का आयोजन किया गया. इस समय फ्रांस, ऑस्ट्रेलिया, श्रीलंका समेत २३ देशो के राष्ट्राध्यक्ष मौजूद थे, २३ देशो के मंत्री, तथा १२१ देशो के प्रतिनिधि शामिल हुए थे.