Home देश तेज प्रताप ने पार्टी के खिलाफ दिखाए ये बड़े तेवर, लालू...

तेज प्रताप ने पार्टी के खिलाफ दिखाए ये बड़े तेवर, लालू के दोनों बेटों में हुआ संघर्ष

SHARE

राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के बड़े बेटे और बिहार के पूर्व मंत्री तेजप्रताप यादव का राजनीति से मोह भंग हो गया है. दऱअसल बात ये है की तेज प्रताप ने पार्टी के खिलाफ बगावती तेवर दिखाते हुए कई गंभीर आरोप लगाए. उन्होंने कहा कि अब पार्टी में उनकी कोई सुनवाई नहीं हो रही है.

जानकारी के मुताबिक़ बता दे की तेज प्रताप पार्टी में तवज्जो नहीं मिलने से खासे नाराज है. एक चैनल से बात करते हुए, उन्होंने दो टूक कहा कि पार्टी के भीतर कुछ असामाजिक तत्वों की एंट्री हो गई है, जो पार्टी को न केवल कमजोर कर रहे है, बल्कि उन्हें तेजस्वी के साथ लड़वाने की कोशिश कर रहे है. तेजप्रताप यादव ने कहा कि पार्टी में उनकी कोई नहीं सुनता. वे राजद के किसी नेता को काम के लिए फोन करते हैं तो रिस्पॉन्स ही नहीं दिया जाता. कहा जाता है ऊपर से दबाब है, हम कुछ नहीं कर सकते. राजेंद्र प्रसाद नाम के एक नेता को पार्टी में सम्मान दिलाने के लिए उन्होंने प्रदेश अध्यक्ष रामचंद्र पूर्वे से कहा लेकिन उनकी नहीं सुनी गई. तेजस्वी से बात करने पर भी कोई फायदा नहीं हुआ. फिर लालू प्रसाद और राबड़ी देवी से बात की तो उनकी बात सुनी गई.

उधर तेजस्वी ने भी तेज प्रताप से किसी तरह की अनबन की खबर से इनकार कर रहे है. बकौल तेजस्वी उनके बड़े भाई ने जो कुछ कहा है वो पार्टी को मजबूत करने को लेकर है. आपको बता दें कि दोनों भाइयों के बीच कथित तकरार की खबर को तेजस्वी के एक ट्वीट से हवा मिली, जिसमें उन्होंने लिखा था मेरा सोंचना है कि मैं अर्जुन को हस्तिनापुर की गद्दी पर बैठाऊं और खुद द्वारका चला जाऊँ. अब कुछेक “चुग्लों” को कष्ट है कि कहीं मैं किंग मेकर न कहलाऊं. राधे राधे. तेजप्रताप यादव ने कहा कि उन्होंने अपने मन की पीड़ा अपनी पत्नी एश्वर्या राय से शेयर की. सारी बात सुनकर उनकी पत्नी भी शॉक्ड हो गईं. परिवार में नई आई एश्वर्या राय को ये पता नहीं था कि घर के बड़े बेटे तेजप्रताप यादव की इस कदर उपेक्षा की जा रही है.

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक तेज प्रताप पार्टी के कार्यकर्ताओं की अनेदेखी को लेकर प्रदेश अध्यक्ष रामचंद्र पूर्वे से खासे नाराज है. इतना ही नहीं तेज प्रताप ने तो यहां तक कहा कि कुछ पार्टी के सीनियर नेता यूथ वर्कर को साइड लाइन कर रहे है. जाहिर है दोनों भाई भले ही खुलेतौर पर अपने बीच किसी मनमुटाव की खबर से इनकार कर रहे हों, लेकिन तेजप्रताप की तल्खी साफ तौर पर बयां कर रही है कि पार्टी और परिवार में सबकुछ ठीक नहीं है. लालू प्रसाद के कुनबे में आग की आशंका लंबे समय से जताई जा रही थी. चर्चा ये थी कि तेजस्वी को वारिस बनाने से ना तेजप्रताप खुश है ना मीसा भारती. लेकिन लालू प्रसाद और राबड़ी देवी ने दोनों को मनाया. लालू खुद इसका ख्याल रख रहे थे कि तेजप्रताप खुद को उपेक्षित नहीं महसूस करें.