Home देश दिलीप घोष ने ममता बनर्जी पर साधा ये निशाना, ममता परेशान

दिलीप घोष ने ममता बनर्जी पर साधा ये निशाना, ममता परेशान

SHARE

लोकसभा चुनाव में राज्य में भाजपा का सफर कम से कम २२ सीटों से शुरू होगा. ममता अपनी वर्तमान ३४ सीटों पर ही लड़ ले वहीं अधिक होगा. उक्त बातें भाजपा के राज्य अध्यक्ष दिलीप घोष ने सोमवार को आसनसोल में राज्य कार्यकारिणी की बैठक में शर्मिष्ठा होटल में कही.

दिलीप घोष भाजपा के राज्य कमेटी की पहले दिन की बैठक के पश्चात पत्रकारों को संबोधित कर रहे थे. २१ जुलाई की सभा में ममता बनर्जी द्वारा ४२ में ४२ सीटें लेने के दावे पर दिलीप घोष ने कहा कि अगर ४२ सीटें भी दे दी जाए तो उनके साथ कोई नहीं है. अविश्वास प्रस्ताव में ही पता चल गया कि विपक्ष के साथ कौन है. कम से कम ममता पीएम बनने का सपना देखना छोड़ दें.

दिलीप घोष ने कहा कि आज चुनाव समिति की व‌िर्द्धत कमेटी की बैठक हुई. इसके निर्णयों से कल होने वाली बैठक में उपस्थित प्रतिनिधियों को अवगत कराया जाएगा. पंचायत चुनाव में हार के लिए मसल पावर और पुलिस को जिम्मेवार ठहराते हुए कहा कि पुरुलिया जैसे जगहों में मसल पावर से मुकाबला किया वहां अच्छा परिणाम रहा.

यहीं कारण है कि परिणाम आने पर उत्तर बंग व मुकाबले वाले जगहों के डीएम-एसपी का तबादला कर दिया गया. भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष ने कहा कि भाजपा की ओर जनाधार वाले लोग आ रहे और बिना जनाधार वाले तृकां का दामन थाम रहे. २१ जुलाई की सभा में तृकां में कोई जनाधार वाला नेता नहीं गया. २१ जुलाई की सभा के लिए एक माह पहले से मंत्री लोग गांवों में घूम-घूमकर लोगों को डरा- धमका रहे थे.

इसके बावजूद भीड़ नहीं जुटा पाए. दूसरी ओर भाजपा की सभा में स्वेच्छा से इतने लोग पहुंचे कि पंडाल टूट गया. तृणमूल प्रमुख व मुख्यमंत्री ममता बनर्जी भाजपा विरोधी लड़ाई में देश के अन्य क्षेत्रीय दलों के साथ कांग्रेस और माकपा की भी मदद लेना चाहती हैं, लेकिन ममता को भाजपा विरोध के नाम पर बंगाल में कांग्रेस और माकपा से सहयोग मिलने की कोई उम्मीद नहीं है.