Home देश देशहित में मोदी ने नया कानून बनाया तो ओवैसी क्यों बौखला गया

देशहित में मोदी ने नया कानून बनाया तो ओवैसी क्यों बौखला गया

SHARE

आजकल हर दिन महिलाओं पर हो रहे अत्याचार की खबर जारी है.इस अत्याचार को देखते हुए देश में कड़े क़ानून बनाने की सख्त जरूरत महसूस होती है. आखिरकार सरकार ने एक ऐसा कानून बनाया है जिसका पूरी देश को सब्र से इंतजार था लेकिन इस क़ानून पर ओवैसी ने हंगामा किया है.

अभी मिली बड़ी खबर के अनुसार आज सोमवार को संसद के मानसून सत्र में बिल पास किया गया. जिसमें १२ साल की काम उम्र की बच्चियों से दुष्कर्म के दोषियों को मौत की सजा दी जाए. साथ ही शुक्र है की इस बिल को पास करने में कांग्रेस ने भी विरोध नहीं किया। ऐसे में अब क़ानून बनकर ही रहनेवाला है.

इस क़ानून के कारण अपराधियों में एक खौफ पैदा हो जाएगा। अब सिर्फ राज्यसभा में बिल पास होना जरुरी है. लेकिन सोचिये इतना अच्छा कानून जो महिलाओं की सुरक्षा के लिए जरुरी है इसका कौन विरोध कर सकता है. लेकिन इस कानून का भी विरोध किया है ,आप सोचेंगे की ऐसा कानून जिसका कई दिनों से इंतजार था इसका कौन विरोध करेगा।लेकिन देश में एकमात्र ऐसा नेता है जिसने इस क़ानून के लिए अपना वोट विरोध के लिए दिया है.

ओवैसी जानता है की ऐसे अधिकतर मांमले में विशेष समुदाय के लोग शामिल है. इस बिल की चर्चा में एमआईएम सांसद ओवैसी ने कहा की सजा के लिए फांसी का प्रावधान सही नहीं है.ओवैसी कहता की हमारे यहां कोर्ट में जजों की कमी, मामले लंबित ऐसी कई समस्याएं सामने है. ओवैसी आगे जाकर कहता है की अगर पुलिस में मामले दर्ज नहीं हो पाते तो सजा कैसी हो पाएगी।

 

ओवैसी का मानना है की ऐसे सख्त क़ानून की बदले में समाज के नजरिये में बदले की जरुरत है। क्योंकि ऐसे दुष्कर्म क़ानून से नहीं बल्कि समाज की मानसिकता बदलने से होगी।महिलाओं पर हो रहे अत्याचार दिन ही दिन बढ़ते जा रहे है. इस पर जल्द से जल्द लगाम लगना महिलाओं की सुरक्षा के लिए बेहद जरुरी है.इस लिए दोषियों को सीधा फांसी हो जायेगी जिससे कही न कही ऐसे अपराध कम होने की उम्मीद है.

वीडियो– ओवैसी vs राजा सिंह, खुली बहस । राजा सिंह ने ओवैसी को दिया करारा जवाब