Home देश नीरव मोदी के बाद मेहुल चौकसी का गेम

नीरव मोदी के बाद मेहुल चौकसी का गेम

SHARE

पंजाब नेशनल बैंक के १३४०० करोड़ रुपए की धोखाधड़ी के मामले में फरार चल हीरा व्यापारी मेहुल चोकसी का दावा है कि उसने अपना व्यापार बढ़ाने के लिए पिछले वर्ष कैरेबियाई देश एंटीगुआ की नागरिकता ले ली थी. एंटीगुआ की स्थानीय मीडिया में आई खबरों के अनुसार, चोकसी का दावा है कि एंटीगुआ के पासपोर्ट पर १३२ देशों में बिना वीजा के यात्रा करने की छूट है.

अखबार ‘डेली ऑबजर्वर’ की खबर के अनुसार, चोकसी की ओर से उसके वकील डेविड डोरसेट ने बयान जारी कर कहा है कि भारतीय जांच एजेंसी और मीडिया की ओर से लगाए जा रहे आरोपों में कोई सच्चाई नहीं है. टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर के मुताबिक, मेहुल चोकसी ने अपने बयान में कहा, ‘मैं कह सकता हूं कि मैंने सिटिजनशिप बाई इंवेस्टमेंट प्रोग्राम के तहत वैध तरीके से एंटीगुआ और बारबुडा की नागरिकता के लिए आवेदन किया था. अपने आवेदन के दौरान मैं वह सब कुछ किया जो कानूनी रूप से आवश्यक था.

नागरिकता के लिए मेरा आवेदन तय प्रक्रिया के तहत मंजूर हुआ है. चोकसी ने नवंबर, २०१७ में एंटीगुआ की नागरिकता ली है और १५ जनवरी, २०१८ को देशभक्ति की शपथ ली है. टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर के मुताबिक, मेहुल चोकसी ने अपने बयान में कहा, ‘मैं कह सकता हूं कि मैंने सिटिजनशिप बाई इंवेस्टमेंट प्रोग्राम के तहत वैध तरीके से एंटीगुआ और बारबुडा की नागरिकता के लिए आवेदन किया था.

अपने आवेदन के दौरान मैं वह सब कुछ किया जो कानूनी रूप से आवश्यक था. नागरिकता के लिए मेरा आवेदन तय प्रक्रिया के तहत मंजूर हुआ है. चोकसी ने नवंबर, २०१७ में एंटीगुआ की नागरिकता ली है और १५ जनवरी, २०१८ को देशभक्ति की शपथ ली है. मेहुल चोकसी के बयान के अनुसार, चोकसी इलाज के लिए जनवरी साल २०१८ में अमेरिका में था.

चोकसी का कहना है कि उसका आवेदन कैरेबियाई देशों में व्यापार बढ़ाने की मंशा और १३० से भी ज्यादा देशों की वीजा मुक्त यात्रा से प्रेरित था. मेहुल चोकसी ने कहा, ‘‘इलाज के बाद अब भी मैं स्वास्थ्य लाभ ले रहा हूं.’’ गौरतलब है कि सीबीआई ने एंटीगुआ के अधिकारियों को पत्र लिखकर भगोड़े हीरा व्यवसायी मेहुल चोकसी के ठिकाने के बारे में जानकारी मांगी है.