Home देश पाकिस्तान की ये नयी कर्तुद आयी सामने,PM मोदी नहीं रोक पा रहे...

पाकिस्तान की ये नयी कर्तुद आयी सामने,PM मोदी नहीं रोक पा रहे है अपनी हसीं

SHARE

भारत और पाकिस्तान के रिश्तों में काफी दिनों से कड़वाहट बनी हुई है .पाकिस्तान की तरफ से पिछले कई दिनों से सीमे पर गोलीबारी की जा रही है.इन सब के बिच भारत आतंकवाद के मुद्दे पर पाकिस्तान पर चर्चा करने जा रहा है.बुधवार से इस्लामाबाद में शांघाई सहयोग संगठन का आतंकवाद निरोधक सम्मलेन शुरू हो रहा है.

इस सम्मलेन में भारत भी शिरकत करेगा.पाकिस्तान विदेशमंत्रालय की तरफ से जरी बयान के अनुसार ,भारत और पाकिस्तान दो परमाणु संपन्न देशों के बिच हालिया तनाव के बावजूद भारतीय प्रतिनिधीमंडल इस सम्मलेन में हिस्सा लेने जा रही है.भारत के साथ २०१७ में एसएसीओ का सदस्य बनने के बाद पाकिस्तान पहली एससीओ बैठक की मेजबानी करेगा.एक बयान में कहा गया कि एससीओ के आठ सदस्य राष्ट्रों- चीन, कजाख्स्तान, भारत, किर्गिस्तान, रूस, तजाकिस्तान, उज्बेकिस्तान और पाकिस्तान- के विशेषज्ञों के साथ ही एससीओ-क्षेत्रीय आतंकवाद निरोधक ढांचे (एससीओ-आरएटीएस) के प्रतिनिधि भी इस बैठक में हिस्सा लेंगे. वे आतंकवाद के खतरे और आतंकवाद निरोधक प्रयासों के तौर तरीकों और इन्हें बढ़ाने पर चर्चा करेंगे.सम्मलेन में भारत की मौजूदगी काफी एहम मनी जा रही है क्यूंकि उसने २०१६ में होने वाले दक्षेस(सार्क) शिखर सम्मलेन का बहिष्कार किया था.

उस वक़्त इसकी वजह पाकिस्तान की तरफ से लगातार आतंकवाद को समर्थन देना बताया गया है.आपको बता दे की पाकिस्तान के दहशतगर्द को पनाह दिया जाने की वजह से भारत उसके सतह द्विपक्षीय बैठक नहीं कर रहा है.कश्मीर में आतंकियों को पाक की तरफ से मदद किए जाने पर भी भारत पाकिस्तान से कफा है.इस लिहाज से भी आतंकवाद निरोधक सम्मलेन में भारत का शामिल होना महत्वपूर्ण बात है.पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने २००८ में हुए मुंबई हमले में पाकिस्तान आतंकियों का शामिल होने की बात को काबुल किया है.उन्होंने मन की पाकिस्तान में आतंकी संघठन सक्रीय है.दुनियाभर में नवाज शरीफ के इस काबुलनाम के बाद पाकिस्तान की चौतरफा किरकिरी हुई है.आतंकवाद निरोधक नवाज शरीफ के बयान के बाद होने जा रहा है.भारत के पास अच्छा मौका है नवाज शरीफ के बयान को हथियार बनाकर आतंकवाद पर उसे उसके घर में घेरा जाये.