Home देश ब्रिटैन की महारानी की शक्तिया।

ब्रिटैन की महारानी की शक्तिया।

SHARE

अब दुनिया में अमेरिका एक ताकदवर देश के रूप  में माना जाता है और अमेरिका के राष्ट्रपति को ताकदवर व्यक्ति कहा जाता है.लेकिंन आपको पता होगा की दूसरे विश्वयुद्ध से पहले ब्रिटैन के राजा को सबसे ताकदवर व्यक्ति माना जाता था.ब्रिटैन को सबसे ताकदवर देश कहा जाता था.लेकिन राजा की मौत होने के बाद उसकी बेटी रानी बनी और सबसे ताकदवर व्यक्ति माना गया.

इतिहास में जैसे समय बीतता गया वैसे सभी देश लोकतांत्रिक होने लगे.लेकिन उसके बाद उनकी ताकद में कमी आ गयी और ब्रिटैन की महारानी सिर्फ नाम की रह गयी.इसके बावजूद बह दुनिया के बहुत सूचियों ने ब्रिटिश की महारानी को दुनिया की सबसे ताकदवर महिला के रूप में स्थान दिया है.साथ ही दुनिया के शक्तिशाली व्यक्तियों भी गिना जाता है.

ब्रिटैन की रानी अब भी दुनिया के चर्चित शक्तियों में से एक है.२००३ से पहले लोग नहीं जानते थे की आखिर इंग्लैंड की महारानी के पास आखिर कितनी ताकद है या फिर कितनी ताकदवर है.लेकिन २००३ में जब ब्रिटेन की सरकार ने बताया की इंग्लैंड की महारानी के साथ क्या क्या काम करती है और कितनी काम करती है?  रानी  ताकद को दुनिया जान गयी.जिसकों अभी तक आम लोग नहीं जानते थे.

ब्रिटैन की महारानी का जन्म २१ अप्रैल १९२६  को ब्रिटैन की राजपरिवार में हुआ.ज्यादातर लोग ब्रिटैन की रानी को क्वीन एलिज़ाबेथ के नाम से जानते है. पूरा नाम एलिज़ाबेथ एलेक्सेंड्रिया मेरी है.अपनी पिता की मौत के बाद ६ फरवरी १९५२ को एलिज़ाबेथ को ब्रिटैन की महारानी रूप में चुना गया.उस समय ब्रिटैन की रानी सिर्फ २६ साल की थी.

आपको जानकार हैरानी होगी की ब्रिटैन की रानी ब्रिटैन के अलावा यूनाइटेड किंगडम के अलावा कनाडा,नूज़ीलैंड और ऑस्ट्रेलिया की भी रानी है.इसके बाद उनके रानी होने के बाद जो १२ देश आजाद हुए उन देशों की भी रानी है.ब्रिटिन की रानी कॉमनवेल्थ देशों की रानी है.जिसमें भारत का भी समावेश है.इससे माना जाएगा की वो यूके की ही नहीं तो बहुत सारे देशों की रानी है.चाहे वो लोकतांत्रिक देशों को क्यों न चुना हो.

ब्रिटेन भी एक लोकतांत्रिक देश है और वहा भी सविधान के तहत काम चलता है.लेकिन वहा ब्रिटैन की रानी को कुछ ऐसी ताकद मिली है जो शायद किसी लोकतांत्रिक देश में न हो.पहले तो महारानी सविधान से ऊपर है. ब्रिटैन की महारानी को किसी भी क़ानून का पालन नहीं करना पड़ता।आप को पता नहीं होगा की महारानी को किसी भी देश में जाने के लिए पासपोर्ट की जरुरत नहीं है.क्यूंकि महारानी के पास कोई पासपोर्ट है ही नहीं।बल्कि ब्रिटैन के सारे पासपोर्ट महारानी के नाम पर इशू किये जाते है.

जब महारानी किसी देश में जाती है तो पहले से ही उस देश को इन्फॉर्म किया जाता है.महारानी को ड्राइविंग के लिए लाइसेंस की भी जरुरी नहीं है.क्यूंकि ड्राइविंग लाइसेंस भी महारानी के नाम पर मिलता है.साथ ही उनको अपनी गाडी पर कोई नंबर प्लेट लगाने की जरुरत नहीं है.

वीडियो:ब्रिटैन की महारानी की सुरक्षा 

ब्रिटैन की महारानी को किसी आईडी की जरुरत नहीं है.उन्हें टैक्स न भरने की भी छूट है.लेकिन वो ऐसा नहीं करती है और सभी टैक्सेज पे करती है.इंग्लैंड की महारानी वहा के संसद के बावजूद भी युद्ध के लिए तैयार कर सकती है.महारानी के ऊपर कोई भी मुक़दमा नहीं चलाया जा सकता है.महारानी के पास सभी अधिकार होने के बावजूद कभी उसका गैर इस्तेमाल नहीं करती और वो अपनी छबि को लेकर सतर्क रहती है.साथ ही ज्यादातर नियमों का पालन करती है.

ब्रिटैन की सारे समुद्रीतटों पर महारानी का अधिकार है.इतना ही नहीं वहा के तटों पर जितनी भी जहाजे, व्हेल्स पाई जाती है उसपर महारानी का अधिकार है.महारानी चाहे तो संसद को भंग कर सकती है और प्राइम मिनिस्टर को हटा भी सकती है.महारानी ब्रिटिश आर्मी की कमांडर और चीफ भी है.महारानी चर्च ऑफ़ इंग्लैंड की हेड भी है.महारानी के पास इतनी  ताकद होने के बाद भी वो इसका दुरूपयोग नहीं करती।