Home देश भारतीय सेना ने पाक के लिए लॉन्च किया ये बड़ा शस्त्र

भारतीय सेना ने पाक के लिए लॉन्च किया ये बड़ा शस्त्र

SHARE

बता दे की ओडिशा के चांदीपुर में बुधवार को पिनाका रॉकेट के उन्नत संस्करण का सफल परीक्षण किया गया. दिशानिर्देशन प्रणाली वाले इस रॉकेट (गाइडेड) की मारक क्षमता बढ़ाई गई है. सूत्रों की माने यह परीक्षण प्रूफ एंड एक्सपेरीमेंट एस्टैब्लिशमेंट से किया गया. बता दे की कुछ और दौर के परीक्षण किए जाने की योजना है.

सूत्रों के अनुसार पहले के पिनाक में गाइडलाइन सिस्टम नहीं थी , उसे अब एडवांस कर गाइडेड सिस्टम से लैस किया गया है. इस सिलसिले में हैदराबाद रिसर्च सेंटर इमारत (आरसीआई) ने नौवहन, दिशानिर्देशन एवं नियंत्रण किट विकसित किया था. आरसीआई रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) के अंतर्गत आता है. जानकारी के मुताबिक़ बता दे की आरसीआई रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) के अंतर्गत आता है. डीआरडीओ के सूत्र के अनुसार इस बदलाव से पिनाका की मारक क्षमता और सटीकता बढ़ गयी है. पहले उसकी मारक क्षमता ४० किलोमीटर थी जो अब ७० किलोमीटर हो गयी है. सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक़ बता दे की चांदीपुर में रडार ने रॉकेट की उसके पूरे मार्ग में निगरानी की. सूत्र ने कहा कि गाइडेड पिनाक की सफलता इस सुविधा से बिना लैस प्रणालियों को बिल्कुल सटीकता वाले हथियारों में बदलने में देश की तकनीकी ताकत को दिखाती है.

जानकारी के मुताबिक़ बता दे की पिनाक रॉकेट मार्क-१ से विकसित किए गए पिनाक रॉकेट मार्क-२ नौवहन, निर्देशन और नियंत्रण किट से लैस है तथा इसे निर्देशित पिनाक में तब्दील कर लिया गया है. रक्षा सूत्रों ने कहा कि परीक्षण चांदीपुर के प्रक्षेपण परिसर तीन से किया गया. ‘पिनाक’ रॉकेट का भी ६५ किलोमीटर रेंज के लिए परीक्षण किया गया. ‘पिनाक’ ९०० वर्ग मीटर के क्षेत्र को पूरी तरह तबाह कर सकता है. उन्होंने कहा कि तब्दीली ने पिनाक की मारक क्षमता, दूरी और निशाने को बेहतर बना दिया है. परीक्षण सभी मिशन लक्ष्यों में सफल रहा. करगिल जंग के दौरान पिनाक मार्क -१ ने काफी साथ दिया था. रक्षा सूत्रों ने बताया कि इसे मल्टिबैरल रॉकेट लॉन्चर से छोड़ा गया. रक्षा मंत्रालय के वैज्ञानिक सलाहकार और डीजी डॉ. जी सतीश रेड्डी इस मिशन के दौरान मौजूद रहे.