Home देश भारत और चीन के बड़े अफसर मिले आमने सामने

भारत और चीन के बड़े अफसर मिले आमने सामने

SHARE

डोकलाम को लेकर हो रही चर्चाओं के बीच भारतीय सेना का एक प्रतिनिधिमंडल बुधवार को चीनी सेना से मिला. बता दे की भारत और चीन की सेनाओं के बीच चीनी सेना के ९१वे स्थापना दिवस समारोह के तहत सिक्किम सेक्टर के नाथू ला में एक बैठक हुई. इस दौरान चीनी सैनिकों ने भारतीय सैन्यदल का गर्मजोशी से स्वागत किया.

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक़ बता दे की भारतीय प्रतिनिधिमंडल में सेना के कई अधिकारी और सैनिक शामिल थे जो पी एल ए के निमंत्रण पर समारोह में शामिल हुए. सेना ने यहां बताया कि चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी यानी के पी एल ए के ९१वे स्थापना दिवस समारोह के तहत विशेष सीमा कर्मी बैठक हुई. सेना के अनुसार पी एल ए के सैनिकों ने भारतीय प्रतिनिधिमंडल से बात की और सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किए.

खबर के अनुसार रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता ने बताया कि दोनों देशों की सेनाओं के बीच इस तरह की मुलाकात व बातचीत से सीमा पर शांति बहाली के लक्ष्यों को प्राप्त करने में मदद मिलेगी. सेना ने कहा, ‘‘सद्भावना के तौर पर भारतीय पक्ष ने भी इस अवसर पर पारंपरिक सांस्कृतिक कार्यक्रमों की प्रस्तुति दी. समारोह का आयोजन उल्लासमय अंदाज में हुआ और दोनों पक्षों को एक-दूसरे की समृद्ध संस्कृति से परिचित होने का अवसर मिला.’’

बता दे की दोनों सेनाओं की यह बैठक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग के बीच वुहान में हुए अनौपचारिक शिखर सम्मेलन के तीन महीने बाद हुई है. वुहान शिखर सम्मेलन डोकलाम गतिरोध के बाद द्विपक्षीय संबंधों में पैदा हुई दरार को पाटने के उद्देश्य से आयोजित किया गया था.

सूत्रों की माने सेना ने आज की बैठक के बारे में कहा, “दोनों सेनाओं के बीच इस तरह की बैठकों का परिणाम आपसी समझ बढ़ने के रूप में निकला है और इससे सीमा पर शांति के साझा उद्देश्यों को हासिल करने की दिशा में मदद मिली है.” ऐसे में चीन के वुहान में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग की अनौपचारिक डील के बाद भारत और चीन बिगड़े रिश्ते तेजी से सुधरते हुए नजर आ रहे है.