Home देश भारत की रक्षा करने के लिए इंडियन नेवी हिन्द महासागर में कर...

भारत की रक्षा करने के लिए इंडियन नेवी हिन्द महासागर में कर रही है ये बड़ा काम

SHARE

तीन दशकों में अपने सबसे बड़े अभ्यास के तहत वायुसेना हिंद महासागर क्षेत्र के समूचे विस्तारित इलाके पर वर्चस्व के वास्ते अपनी क्षमता को परखने के लिए विशाल युद्धाभ्यास कर रही है जिसमें उसके अग्रिम लड़ाकू जेट विमान भी हिस्सा ले रहे हैं. हाल ही में हिंद महासागर के सुरक्षा पर खबर आई है.

जानकारी के मुताबिक़ गुरूवार को पूर्वी नौसेना कमान के वाइस एडमिरल एम एस पवार ने हिंद महासागर के सुरक्षा के बारे में बात करते हुए यह कहा की भारतीय नौसेना हिंद महासागर में नेट की सुरक्षा की जिम्मेदारी निभाने के लिए पूरी तरह तैयार है. इस क्षेत्र के कई देश सहयोग और प्रशिक्षण के लिए भारतीय नौसेना की ओर देखते हैं यह बात भी उन्होंने कही है. वाइस एडमिरल पवार ने यहां नौसेना के प्रमुख विमान वाहक पोत आईएनएस विक्रमादित्य को समुद्र में ईंधन पहुंचाने के लिए विशेष रूप से बनाए गए एक ईंधन नौका का जलावतरण किया यह जानकारी मिली है. आगे उन्होंने बताया भारत में निर्मित पहला विमान वाहक पोत आइएनएस विक्रांत भी भारतीय नौसेना का जल्द ही हिस्सा होगा. बता दे फिलहाल यह भारत के पूर्वी समुद्री तट पर तैनात रहेगा.

सूत्रों की माने वाइस एडमिरल पवार ने पनडुब्बियों को तैयार होने में ज्यादा वक्त लग रहा है इस पर सहमति जताई है हाला की यह भी बताया की जल्द ही एक द्वितीय श्रेणी की कलवरी पनडुब्‍बी नौसेना का हिस्सा होगी. वाइस एडमिरल पवार ने कहा कि फिलहाल ४० से ज्यादा युद्धक विमान तैयार किए जा रहे हैं, जो कि जल्द ही नौसेना का हिस्सा होंगे और भारतीय नौसेना ने पिछले ही हफ्ते बांग्लादेश में ४०० टन राहत सामग्री पहुंचाई है. वाइस एडमिरल पवार ने बताया कि भारतीय नौसेना मालदीव के सुरक्षाबलों के साथ मिलकर विशिष्ट आर्थिक क्षेत्र इइझेड की सुरक्षा करने में लगी है. सूत्रों की माने भारत के कई पड़ोसी देश जैसे कि बांग्लादेश, म्यांमार, श्रीलंका सहयोग और प्रशिक्षण के लिए भारत की ओर देखते हैं यह जानकारी उन्होंने दी.