Home देश मिशन २०१९ के लिए अमित शाह ने कार्यकर्ताओं को दिया ये मन्त्र

मिशन २०१९ के लिए अमित शाह ने कार्यकर्ताओं को दिया ये मन्त्र

SHARE

भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) अगले साल होने वाले लोकसभा चुनाव और राजस्थान, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव की तैयारियों में जुट गई है. बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने विधानसभा चुनाव में जीत सुनिश्चित करने के उद्देश्य से राजस्थान का दौरा किया और राज्य की बीजेपी वर्किंग कमेटी की बैठक को भी संबोधित किया.

इस दौरान शाह ने पार्टी के नेताओं और कार्यकर्ताओं को चुनाव में जीत पाने के लिए कई नसीहतें दीं.उन्होंने नेताओं को चेताते हुए एकजुट रहने की नसीहत दी. उन्होंने कहा कि सरकार है तो सब है, नहीं तो हवलदार भी ‘सैल्यूट’ नहीं करता.शाह ने पार्टी नेताओं को चेतावनी देते हुए कहा कि अहंकार छोड़कर पार्टी के कार्यकर्ताओं की सुध लें. पार्टी को चुनाव में जीत कार्यकर्ता ही दिलाते हैं. हमारे पार्टी के राज्य में १५ लाख कार्यकर्ता है.

एक कार्यकर्ता तीन लोगों के वोट पार्टी के पक्ष में दिलवाता है, तो सरकार बन जाएगी. उन्होंने कहा कि सरकार है तो सब है, नहीं तो हवलदार भी ‘सैल्यूट’ नहीं करता. इस पहले शनिवार को शाह ने पार्टी कार्यकर्ताओं को भी संबोधित किया. इस दौरान शाह ने कहा कि पार्टी को चुनाव में जीत दिलाने के लिए हर रोज १८ घंटे काम करने की जरूरत है. कार्यकर्ता जनता के बीच जाकर सरकार के कामों के बारे में जानकारी दें.

बीजेपी अध्यक्ष ने स्पष्ट करते हुए कहा कि राजस्थान में पार्टी मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के नेतृत्व में विधानसभा चुनाव लड़ेगी. एक बार फिर से सरकार बनाएगी. उन्होंने कार्यकर्ताओं से कहा कि दिन रात एक कर, बूथ स्तर तक संगठन को और मजबूत करके भाजपा को अजय बनाना हम सभी कार्यकर्ताओं का एक मात्र लक्ष्य होना चाहिए.बता दें कि राजस्थान विधानसभा का कार्यकाल अगले साल जनवरी में खत्म हो रहा है.

वहीं मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में इस साल के अंत में चुनाव हो सकते हैं. शाह ने कहा कि बीजेपी राजस्थान के अलावा मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में भी सरकार बनाएगी, वहीं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ही अगले पीएम भी बनेंगे. उन्होंने कहा, ‘तुष्टिकरण पर केंद्रित कांग्रेस कभी भी विकास की राजनीति करने वाली भाजपा का विकल्प नहीं हो सकती. दिन रात एक कर, बूथ स्तर तक संगठन को और मजबूत करके भाजपा को अजय बनाना हम सभी कार्यकर्ताओं का एक मात्र लक्ष्य होना चाहिए.