Home देश मेनका गांधी ने महिला सशक्तिकरण के लिए उठाया ये कदम, महिलाये हुई...

मेनका गांधी ने महिला सशक्तिकरण के लिए उठाया ये कदम, महिलाये हुई खुश

SHARE

केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री मेनका गांधी ने वित्त मंत्री पीयूष गोयल से आयकर अधिनियम में संशोधन करने का आग्रह किया है ताकि पत्नियों या बहुओं को देने वाले उपहारों पर कर नहीं लग सके. मेनका ने ट्वीट कर कहा, “एक समाज के रूप में महिलाओं को आर्थिक रूप से सशक्त करना हमारा दायित्व है.

महिलाओं, विशेष रूप से पत्नियों और बहुओं के कई अनुरोधों के बाद मैंने वित्त मंत्री से आयकर अधिनियम की धारा ६४ पर विचार करने और उचित रूप से संशोधन करने का आग्रह किया है. ” आयकर की धारा ६४ के तहत अगर कोई पति अपनी पत्नी को उपहारस्वरूप संपत्ति देता है और उस संपत्ति से पत्नी को कुछ आय होती है तो उस आय को भी पति के कर में जोड़ दिया जाता है.

केंद्रीय मंत्री ने सोमवार देर रात ट्वीट कर कहा,“यह प्रावधान मूल रूप से १९६० के दशक में इस धारणा के तहत तैयार किया गया था कि पत्नियों और बहुओं के पास आमतौर पर कोई स्वतंत्र कर योग्य आय नहीं होती.” मेनका गांधी ने हालांकि कहा कि इस अधिनियम का प्रतिकूल प्रभाव पड़ा है क्योंकि वर्तमान में महिलाएं आर्थिक रूप से अधिक स्वतंत्र हो रही हैं.

आयकर की धारा ६४ के तहत अगर कोई पति अपनी पत्नी को उपहारस्वरूप संपत्ति देता है और उस संपत्ति से पत्नी को कुछ आय होती है तो उस आय को भी पति के कर में जोड़ दिया जाता है. केंद्रीय मंत्री ने सोमवार को देर रात अपने एक ट्वीट द्वारा कहा, “यह प्रावधान मूल रूप से १९६० के दशक में इस धारणा के तहत तैयार किया गया था कि पत्नियों और बहुओं के पास आमतौर पर कोई स्वतंत्र कर योग्य आय नहीं होती. मेनका गांधी ने कहा कि इस अधिनियम का प्रतिकूल प्रभाव पड़ा है क्योंकि वर्तमान में महिलाएं आर्थिक रूप से अधिक स्वतंत्र हो रही हैं.

मंगलवार को इस मामले में उन्होंने वित्त मंत्री को पत्र भी लिखा, जिसमें कहा है कि यह कानून तब बना था, जब महिलाएं सक्षम नहीं थीं. आज महिलाएं आर्थिक स्तर पर मजबूत हैं, लिहाजा आर्थिक लेन-देन में महिला की सहभागिता और भूमिका बदल गई है. इसलिए अब मंत्रालय को इस दिशा में आवश्यक कदम उठाए, जिससे महिलाओं को टैक्स देने में छूट मिल सके.