Home देश मोदी की बातों से उद्योगजगत में जोश

मोदी की बातों से उद्योगजगत में जोश

SHARE

ग्रोथ और इन्वेस्टमेंट के बारे में इंडिया इंक सतर्कता बरतने लगा दिखाई दे रहा है. कई उद्योगपति डिमांड में सुधार होने तक निवेश के मोर्चे पर कदम रोके रखना पसंद कर रहे है. एक साल पहले मोदी सरकार बनने पर जोश का जो माहौल था.भारत के इंक ने आज कहा कि प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी का दावा है कि वह भारत के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हुए उद्योगपतियों के साथ देखे जाने से डरते नहीं हैं.

नरेंद्र मोदी के उस बयान ने भारतीय उद्योग जगत में नया उत्साह और आत्मविश्वास भर दिया है जिसमें उन्होंने देश के विकास में उद्योगों की अहमियत पर बल देते हुए कहा था कि वह उद्योगपतियों के साथ दिखने से डरते नहीं हैं. उद्योगों को प्रधानमंत्री की ओर से यह समर्थन ऐसे समय में मिला है जब वह नकारात्मक माहौल से घिरा हुआ है.

महिंद्रा ग्रुप के चेयरमैन आनंद महिंद्रा ने ट्वीट करके कहा कि उद्योगों के लिए अत्यंत जरूरी विश्वास ऐसे समय में दिखाई दिया है जब उसे सिर्फ आलोचना और बुराई मिलती है. उद्योग संगठन फिक्की ने देश के विकास में उद्योगों के योगदान को प्रधानमंत्री मोदी की तारीफ स्वागत योग्य है. कुछ लोगों की अवैध गतिविधियों के चलते उद्योगपतियों के साथ गलत व्यवहार को मजबूती से नकारकर पीएम ने अच्छा संकेत दिया है.

फिक्की के अध्यक्ष रशेष शाह ने कहा कि प्रधानमंत्री ने उद्योग के साथ मिलकर काम करने का संदेश देने के साथ ही यह संकेत भी दिया है कि गलत तरीके अपनाकर देश और अर्थव्यवस्था को नुकसान पहुंचाने वाले उद्योगपतियों को बख्शा नहीं जाएगा. इससे उद्योगों के खिलाफ नकारात्मक आम राय को खत्म करने में मदद मिलेगी और निजी क्षेत्र में उत्साह का संचार होगा.

उद्योग संगठन सीआइआइ के अध्यक्ष राकेश भारती मित्तल ने कहा कि उद्योग पर भरोसा जताया है और देश के निर्माण में उनकी भूमिका की अहमियत बताई है. इससे उद्योग को सांत्वना मिली है. निवेश करके रोजगार पैदा करने और देश के विकास में योगदान करने के प्रयासों को भी इससे मान्यता मिली है. प्रधानमंत्री मोदी ने लखनऊ में कहा था कि वह उद्योगपतियों के साथ दिखने से डरते नहीं है. उद्योगों ने देश के विकास में अहम भूमिका निभाई है.

एसोचैम के अध्यक्ष संदीप जाजोदिया ने कहा है कि पीएम के आश्वासन से उद्योग जगत की चिंताएं खत्म हुई हैं. इससे उद्योग जगत का आत्मविश्वास बढ़ेगा. दीर्घकालिक तौर पर इसका असर समग्र और टिकाऊ आर्थिक विकास के रूप में दिखाई देगा. उन्होंने लखनऊ में जारी बयान में कहा कि उत्तर प्रदेश में विभिन्न क्षेत्रों में निवेश बढ़ेगा और रोजगार के अवसर पैदा होंगे.

राज्य का तेज औद्योगिक विकास हो सकेगा. हिंदुस्तान यूनीलीवर के सीईओ संजीव मेहता ने कहा कि किसी ट्रेंड का अनुमान लगाना तो मुश्किल है, लेकिन इस क्वॉर्टर में ग्रोथ बढ़ी है. उन्होंने कहा कि माहौल में अनिश्चितता है और लॉन्ग टर्म सोच रखना जरूरी है. एचयूएल अपने ब्रैंड और मार्केट डिवेलपमेंट पर निवेश जारी रखेगी. आदित्य बिड़ला ग्रुप को लग रहा है कि आमदनी का जो टारगेट उसने तय किया था, वह अब २०१८ में हासिल हो सकेगा. वहीं एलऐंडटी का कहना है कि उसके कुछ प्लांट्स ठप पड़े है.

लखनऊ में प्रधान मंत्री ने कल कहा था कि वह देश के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हुए उद्योगपतियों के साथ देखा जाने से डरते नहीं थे क्योंकि उन्होंने विपक्षी दलों को भारत की आजादी के ७० साल बाद किए गए “गलतियों” के लिए दोषी ठहराया था. उद्योगपति “चोर और लुटेरे ” को बुलावा देने के लिए उन पर हमला करते हुए मोदी ने कहा कि वह व्यापार समुदाय के साथ खड़े होने में संकोच नहीं करते क्योंकि उनके “इरादे” स्पष्ट हैं.

उन्होंने कहा, “हम लोग नहीं हैं जो व्यापारियों के बगल में खड़े होने से डरते हैं,” उन्होंने कहा कि किसानों, बैंकरों, सरकारी कर्मचारियों और मजदूरों की तरह, उद्योगपतियों ने भी देश के विकास में योगदान दिया. मोदी का उत्पीड़न कांग्रेस द्वारा बार-बार हमलों की पृष्ठभूमि के खिलाफ आया था, जो आरोप लगा रहा है कि प्रधान मंत्री ने “भ्रष्ट” उद्योगपतियों से जुड़ा हुआ था और किसानों और वंचित लोगों की उपेक्षा करने का आरोप लगा रहे हैं.