Home देश मोदी सरकार देश की बेटियों को देगी ये बड़ा तोहफा

मोदी सरकार देश की बेटियों को देगी ये बड़ा तोहफा

SHARE

केंद्र सरकार ने सुकन्या समृद्धि योजना में सालाना न्यूनतम जमा की सीमा १००० रुपये से घटाकर २५० रुपये कर दी है. अब अधिक से अधिक लोग इस योजना का लाभ उठा सकेंगे. इसके लिए सरकार ने सुकन्या समृद्धि खाता नियम, २०१६ में संशोधन किया है. इस खाते को खोलने के लिए अब २५० रुपये ही जमा कराने की जरूरत होगी.

साथ ही सालाना इस खाते में १००० रुपये के बजाय २५० रुपये जमा कराने की ही अनिवार्यता होगी. केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली ने २०१८-१९ के अपने बजट भाषण में कहा था कि जनवरी, २०१५ में शुरू की गई सुकन्या समृद्धि खाता योजना काफी सफल रही है. नवंबर, २०१७ तक देशभर में छोटी लड़कियों के नाम पर १.२६ करोड़ खाते खोले गए थे. इन खातों में १९१८३ करोड़ रुपए जमा हुए थे.

सुकन्या समृद्धि खाते पर ब्याज दरों को अन्य लघु बचत योजनाओं और पीपीएफ की तरह प्रत्येक तिमाही में संशोधित किया जाता है. जुलाई-सितंबर की तिमाही के लिए ब्याज दर ८.१ प्रतिशत तय की गई है. इस योजना के तहत किसी दस साल से कम उम्र की किसी भी लड़की के माता-पिता या कानूनी अभिभावक यह खाता खोल सकते हैं.

सरकारी अधिसूचना के अऩुसार यह खाता किसी डाकघर शाखा या अधिकृत सरकारी बैंक की शाखा में खोला जा सकता है. इस खाते में जमा और परिपक्वता राशि पर आयकर कानून की धारा ८० सी के तहत कर की पूरी छूट मिलती है. अब इस खाते में न्यूनतम २५० रुपये जमा कराने की जरूरत होगी. खाते में सालाना अधिकतम डेढ़ लाख रुपये जमा कराए जा सकते हैं.

एक महीने या वित्त वर्ष में कितनी बार भी इस खाते में पैसा जमा कराया जा सकता है. योजना के तहत यह खाता खोलने की तारीख से २१ साल तक वैध रहेगा. उसके बाद यह परिपक्व होगा और और उस लड़की को इसका भुगतान किया जाएगा जिसके नाम पर खाता खोला गया है. खाता खोलने की तारीख से १४ साल तक इसमें राशि जमा कराई जा सकती है. उसके बाद खाते पर उस समय लागू दरों के हिसाब से ब्याज मिलेगा.