Home देश राजस्थान की घटना से मायावती मुश्किल में

राजस्थान की घटना से मायावती मुश्किल में

SHARE

देश के विभिन्न हिस्सों में हिंसक घटनाएं सामने आ रही है और कांग्रेस चुन चुन कर वो मुद्दे उठा रही है जिसका तुष्टिकरण किया जा सके और राजनीति की जा सके. बता दे की राजस्थान बाड़मेर जिले से एक दलित युवक खेतराम भीम को लेकर खौफनाक कांड की खबर आयी है तो उसे कोई कांग्रेसी या दोगला मीडिया नहीं दिखा रहा है.

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक़ बता दे की राजस्थान के अलवर में रकबर उर्फ़ अकबर खान की मौत हो गयी थी जिसे बताया जा रहा है कि भीड़ ने पीट कर मार दिया है क्यूंकि वो देर रात गाय ले जा रहा था. तब कांग्रेस समेत सभी विपक्षी पार्टियों को इस मुद्दे में दिलचस्पी जाग गयी. लेकिन अब उसी राजस्थान में एक और ऐसा

खौफनाक कांड हुआ है जिसे देखते ही सभी विपक्षी पार्टियों की बोलती बंद हो गयी है. खबरों की माने दलित युवक खेतराम भीम ने कभी नहीं सोचा होगा एक मुस्लिम युवती से प्रेम करने की कीमत उसे अपनी जान देकर चुकानी पड़ेगी. मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, मुस्लिम लड़की पक्ष के गुस्साए परिजनों के अंदर धार्मिक कट्टरता इस कदर भरी हुई थी कि उन्होंने खेतराम को पीट पीट कर बेरहमी से मार दिया.

बता दे की सबसे बड़ी चौंकने वाली बात ये है कि दलित युवक की निर्मम हत्या पर दलितों की देवी मायावती का मुँह नहीं खुल रहा है. क्यूंकि इसमें एक समुदाय का हाथ है. वरना अभी तक मायावती प्रेस कांफ्रेंस कर चुकी होती और लिखा हुआ भाषण पढ़ कर सरकार पर आरोप लगते हुए लोकतंत्र की हत्या बता चुकी होती.

दलितों के सबसे बड़े मसीहा बात-बात पर दलितों का रोना रोने वाले जिग्नेश मेवानी भी अपनी शकल नहीं दिखा रहे है. जानकारी के मुताबिक़ एक एंकर अमीश देवगन ने रअकबर खान के साथ खेतराम का भी मुद्दा उठाया और कांग्रेस की चुप्पी पर पोल खोलनी शुरू करी तो खेतराम पर सवाल पूछने से कोंग्रेसी प्रवक्ता राजीव त्यागी इतना बौखला उठे की उन्होंने अमीश देवगन को दलाल और भड़वा तक कह दिया.