Home देश रूस पहुंचे PM मोदी, पुतिन के बारे में कह दी ये बड़ी...

रूस पहुंचे PM मोदी, पुतिन के बारे में कह दी ये बड़ी बात

SHARE

रूस के सोचि पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन से मुलाकात की. इस अनौपचारिक शिखर वार्ता के दौरान दोनों राष्ट्राध्यक्षों के बीच रक्षा एवं क्षेत्रीय सहयोग बढ़ाने को लेकर बातचीत हुई.दोनों नेताओं ने अनौपचारिक शिखर वार्ता के दौरान कई मुद्दों पर चर्चा की और एक-दूसरे के देश को पूर्ण समर्थन देने की बात कही.

इस मौके पर पीएम मोदी ने कहा, ‘भारत और रूस पुराने मित्र हैं. मैं राष्ट्रपति पुतिन का आभारी हूं जो उन्होंने मुझे इस अनौपचारिक मुलाकात के लिए सोचि बुलाया. इसके अलावा उन्होंने याट की सवारी का भी लुत्फ उठाया.व्लादिमीर पुतिन ने दोबारा राष्ट्रपति चुने जाने के महज २ हफ्ते के अंदर पीएम मोदी को अनौपचारिक मुलाकात का न्योता दिया था.’प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदीजी ने पुतिन से कहा, ‘मुझे फोन पर बधाई देने का अवसर मिला था, लेकिन आज मिलकर बधाई देने का सौभाग्य मिला. भारत के सवा सौ करोड़ देशवासियों की ओर से भी आपको बहुत-बहुत बधाई. साल २००० में पदभार संभालने के बाद से आपका भारत के साथ अटूट रिश्ता रहा है.’अपने संबोधन में पीएम मोदी ने भारत और रूस के बीच दृढ़ संबंधों को उजागर करने के लिए कई बार पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का उल्लेख किया.

पीएम मोदी ने पुतिन से कहा कि पहली बार रूस के राष्ट्रपति बनने के बाद आप भारत गए थे, उस समय अटल बिहारी वाजपेयी प्रधानमंत्री थे. उस दौरान आपने भारत को जीवंत लोकतंत्र बताया था. इसको लेकर भारत के लोग आज भी आपको याद करते हैं. भारत और रूस बहुत पुराने दोस्त हैं. इनका रिश्ता अटूट है.पीएम मोदी ने कहा कि राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन मेरे बेहद करीबी दोस्त भी हैं. सोचि में अनौपचारिक मुलाकात के लिए आमंत्रित करने के लिए राष्ट्रपति पुतिन का शुक्रिया.रूस रवाना होने से पहले प्रधानमंत्री ने ट्वीट कर इस दौरे के बारे में जानकारी दी. रविवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के साथ उनकी वार्ता से दोनों देशों के बीच संबंधों में और मजबूती आएगी.पीएम मोदी और पुतिन के इस ताजा मुलाकात में ईरान के साथ परमाणु समझौते से अमेरिका के हटने से भारत और रूस पर पड़ने वाले आर्थिक असर, सीरिया और अफगानिस्तान के हालात, आतंकवाद के खतरे और आगामी शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) और ब्रिक्स सम्मेलन से जुड़े मामलों के शामिल होने की संभावना है.