Home देश शिवसेना ने पोस्टर के जरिए चली ये नई चाल

शिवसेना ने पोस्टर के जरिए चली ये नई चाल

SHARE

शिवसेना और भाजपा के टूटे रिश्तों का असर अब बाकी के राज्यों में भी दिखेगा. ये सभी जानते हैं कि भाजपा के लिए सबसे अहम राज्य यूपी है. अगले चुनावों में देश पर कौन राज करेगा, इसका फैसला फिर से यूपी ही करेगा. महाराष्ट्र में जिस तरह से भाजपा ने अपने पैर पसारे हैं, उसने शिवसेना की नींद उड़ा दी है.

ऐसे में वह भाजपा को उसी के अंदाज में जवाब देना चाहती है. इसके लिए उसने एक नए प्लान पर काम शुरू कर दिया है. शिवसेना अब भाजपा को यूपी में ही घेरना चाहती है. इसीलिए अक्सर उत्तर भारतीयों को अपने निशाने पर लेने वाली शिवसेना के मुखिया उद्धव ठाकरे ने उत्तर प्रदेश का रुख किया है. इसके लिए उसने अयोध्या और वाराणसी के लिए खास रणनीति बनाई है. उत्तरप्रदेश में ये दोनों ही जगह भाजपा के लिए काफी अहम हैं.

अब अपनी नई रणनीति के तहत शिवसेना ने अयोध्या और वाराणसी पर फोकस किया है. इसके तहत शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे अयोध्या और वाराणसी की यात्रा पर जाएंगे. इस बात की पुष्टि खुद शिवसेना की ओर से कर दी गई है. शिवसेना के राज्यसभा सांसद संजय राउत ने इस कार्यक्रम की घोषणा करते हुए कहा, उद्धव ठाकरे अयोध्या जाएंगे. वहां वह एक रैली को संबोधित करेंगे. इसके बाद वह वाराणसी जाएंगे. वहां पर वह गंगा आरती में भाग लेंगे.

इसके बाद वह काशी विश्वनाथ मंदिर में पूजा करेंगे. शिवसेना ने इसकी तैयारी अभी से शुरू कर दी है. इसके लिए पूरे मुंबई में शिवसेना की ओर से पेास्टर लगा दिए गए हैं. शिवसेना नेता मिलिंद नार्वेकर ने इन पोस्टर्स को लगाया है. इसमें लिखा है चलो अयोध्या चलो वाराणसी. इसमें एक नारा भी लिखा है. सौ सोनार की, एक लोहार की. गौरतलब है कि महाराष्ट्र में शिवसेना और भाजपा के बीच गठबंधन टूट चुका है. उद्धव ठाकरे ने कहा कि भगवान राम का निर्वासन अभी खत्म नहीं हुआ है.

ठाकरे ने कहा कि वह जल्‍द ही अयोध्‍या और वाराणसी जाएंगे. यह उत्‍तर भारत में उनके लाखों कार्यकर्ताओं की इच्‍छा है. वे चाहते थे कि उनके दिवंगत पिता बाला साहब ठाकरे अयोध्‍या आएं. शिवसेना ने राम मंदिर के लिए बड़ा बलिदान दिया था. इसके अलावा उन्होंने यह भी कहा कि वो अयोध्या जाकर मोदी जी की कामकाज की समीक्षा भी करेंगे। शिवसेना के इस ऐलान के बाद से भाजपा में खलबली मच गई है और महाराष्ट्र की राजनीति एक बार फिर गरमा गई है.