Home देश 2019 के लिए अमित शाह की रणनीति

2019 के लिए अमित शाह की रणनीति

SHARE

२०१९ के चुनाव में पार्टिया अब कितने सीटों पर लड़ेगी ये लगभग तय हो चुका है. अभी मिली खबर के अनुसार बता दे की कांग्रेस की रणनीति जहां २५०-२७५ सीटों पर लड़ने की है, वहीं भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने भी पार्टी पदाधिकारियों के साथ हाल ही में हुई बैठक में स्पष्ट किया है कि ४५० से ४८० सीटों पर चुनाव लड़ा जाना है.

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक़ बता दे की पार्टी हाईकमान का स्पष्ट निर्देश है कि, “भाजपा कहीं भी टीम ‘बी’ बन कर नहीं लड़ेगी. यानी जहां गठबंधन की सरकार है, वहां भी भाजपा गठबंधन पार्टी से ज्यादा या बराबर सीटों पर लड़ेगी. पार्टी कार्यकर्ता इसी सोच के साथ लोकसभा चुनाव की तैयारी करें.” २०१४ में भाजपा ने अब तक की सर्वाधिक ४२८ सीटों पर उम्मीदवार उतारे थे. तब उसे २८२ सीटों पर जीत मिली थी.

बता दे की २०१९ में भाजपा का दक्षिण के राज्य तमिलनाडु पर विशेष फोकस होगा. यहां एआईएडीएमके की नेता जयललिता के निधन के बाद उनकी पार्टी कमजोर हुई है. पिछले हफ्ते महाराष्ट्र प्रवास के दौरान भी शाह ने पदाधिकारियों के साथ बैठक में प्रदेश की सभी ४८ सीटों पर चुनाव लड़ने के लिए तैयार रहने का निर्देश दिया था यह बताया जा रहा है.

खबरों की माने भाजपा के एक रणनीतिकार ने बताया कि ५० सीटें बढ़ाने की संभावना पार्टी महाराष्ट्र, पंजाब, आंध्रप्रदेश और तमिलनाडु में देख रही है. तमिलनाडु, केरल, कर्नाटक, तेलंगाना, आंध्रप्रदेश, ओडिशा, पश्चिम बंगाल में शायद ही किसी पार्टी से भाजपा चुनाव पूर्व गठबंधन करे यह कयास लगाए जा रहे है. जानकारी के मुताबिक़ इन राज्यों की करीब-करीब सभी सीटों पर चुनाव लड़ने की रणनीति तैयार की जा रही है.

बता दे की भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव अरुण सिंह ने बताया की, “पार्टी अधिक से अधिक सीटों पर लड़ने और अपने दम पर बहुमत हासिल करने की रणनीति पर काम कर रही है. सहयोगी दलों के साथ सम्मानजनक समझौता करेंगे. एनडीए के घटक दलों की संख्या भी कम न हो, यह भी प्रयास किया जा रहा है.” ऐसे में अगले चुनाव में भाजपा क्या रंग दिखाती है यह देखना दिलचस्प होगा.