Home देश America ने अचानक ही इस देश पर किया ड्रोन अटैक, सदमे में...

America ने अचानक ही इस देश पर किया ड्रोन अटैक, सदमे में सारी दुनिया

SHARE

पकिस्तान ने सालो साल अपने देश में आतंकवादियों को पनाह दे रखी है. दुनिया में सभी जानते है की किस तरह दुनिया बढ़ते आतंकवाद के लिए यह देश जिम्मेदार है.

Image result for अमेरिका pakistan

जब भी दुनिया में कोई भी आतंकवादी कार्यवाही होती है या कोई आतंकवादी पकडे जाते है तो उनका सम्बन्ध पकिस्तान से होता ही है. इस देश ने आतंकवादियों को अपने देश में खुला छोड़ दिया है. यहाँ कई आतंकी ट्रेनिंग कैंप खुले तरीके से शुरू है. अमेरिका सह कई अन्य देशो ने पकिस्तान को आतंवादियों पर कड़ी कार्यवाही करने के आदेश बार बार देने के बाद भी पाकिस्तान ने कोई कदम नहीं उठाये. अमेरिका ने उन्हें इस काम के लिए आर्थिक मदत भी की थी. लेकिन पकिस्तान इसका कोई भी इस्तेमाल नहीं किया. इस देश ने कार्यवाही का सिर्फ ढोंग रचा. सम्बंधित आतंकी की संपत्ति जप्त करने का और उसे नजरकैद में रखने का नाटक किया. जब यह जूठ दुनिया के सामने आया तो अमेरिका ने उसे घोषित की गयी आर्थिक मदत पर निर्बंध लगा दिए.

Related image

अमेरिका ने पकिस्तान को कई बार समझाने के बाद भी उसके बर्ताव में कोई भी सुधार नहीं आया है. पकिस्तान आज भी आतंकवादियों के लिए पूरी दुनिया से दुश्मनी मोल रहा है. एफ ए टी आई की सूचि में पकिस्तान को शामिल कर दिया गया है. पकिस्तान पर अब आतंकवाद के मामले में कड़ी नजर रखी जाएगी. इस कार्यवाही के लिए भी भारत और अमेरिका ने ही जोर दिया था. और इसके लिए दोबारा वोटिंग करने की माग की थी, जिसके बाद पकिस्तान इस सूचि में शामिल हुआ. लेकिन अमेरिका अभी भी गुस्से में है. वह अब चेतावनी देने के बजाय पकिस्तान पर कार्यवाही करने के पक्ष में है. साल २०१८ के २ ही महीनो में अमेरिका ने पकिस्तान पर ३ बार हमले किये है. इन हमलो आतंकवादियों के कुछ ठिकाने नष्ट किये गए.

Image result for SAJNA MEHSUD

अमरीका ने ड्रोन के इस्तेमाल से यह हमले किये है. पहले बीते 17 और 24 जनवरी को भी अमेरिका ने इसी तरह का हमला किया था. पाकिस्तान पर आतंकी संगठनों पर कार्रवाई करने के लिए अमेरिका लगातार दबाव डाल रहा है. हाल ही में काबुल में आतंकी हमलों के लिए भी पाकिस्तान को जिम्मेदार ठहराया गया है. 24 जनवरी को अमेरिकी ड्रोन हमले में हक्कानी नेटवर्क का एक कमांडर और उसके दो सहयोगी मारे गए थे. चालक रहित टोही विमान ने पाकिस्तान-अफगानिस्तान सीमा के निकट ओरकजई एजेंसी में स्पीन थाल दापा मेमोजई क्षेत्र के एक घर में दो मिसाइलें दागी थीं. अमेरिका ने एक बार फिर पाकिस्तान बॉर्डर पर आतंकी ठिकानों पर ड्रोन से हमला किया. ड्रोन हमले में चार आतंकी मारे गए हैं. मारे गए आतंकयों में से एक तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान (टीटीपी) का प्रमुख भी शामिल था, जिसपर प्रतिबंध लगा था.

Related image

पकिस्तान के उत्तर वाजिरिस्थान में आतंकियो के ठिकानो का पता चलने पर अमेरिका ने यह सैन्य करवाई की है. इस हमले में एक आतंकी कैंप को निशाना बनाया गया. मीडिया रिपोर्टों से पता चला है कि मारे गए टीटीपी आतंकी की पहचान सजना महसूद से हुई है. जिसे हाल ही में तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान का प्रमुख बनाया गया था. जबकि अन्य मारे गए संदिग्ध आतंकी प्रतिबंधित आतंकवादी संगठन हक्कानी नेटवर्क से ताल्लुक रखते थे. जिनमें से एक की पहचान नाइब अमीर के नाम से हुई है.पिछले साल अगस्त में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की नई अफगान नीति के बाद खुर्रम एजेंसी में ड्रोन हमलों में तेजी आई है. इस नीति में पाकिस्तान पर आतंकियों को सुरक्षित पनाह देने का आरोप भी लगाया गया है. गौरतलब है कि 2016 में ऐसे हमले में तालिबान का शीर्ष आतंकी मुल्ला अख्तर मंसूर मार गया था.

Related image

अमेरिका का कहना है की यदि पकिस्तान आतंकियों के खिलाफ करे तो अमेरिका अपने निर्णय पर पुनर्विचार के लिए तैयार है. अमेरिका के अध्यक्ष डोनाल्ड ट्रम्प ने कहा है की पकिस्तान अगर आतंकवाद के खिलाफ लड़ने की तयारी दर्शाता है तो अमेरिका उस पर कोई हमला नहीं करेगा. और अमेरिका ने निर्बंध लगायी हुई आर्थिक मदत फिर एक बार देने की भी बात की है. लेकिन अब पकिस्तान इस पर क्या कदम उठता है ये तो आनेवाले समय में ही पता चलेगा. इससे पहले भी कई बार अमेरिका को चेतावनी दी गयी थी की वह अपनी हरकते रोक ले. किन्तु पकिस्तान इसपर गौर नहीं किया. इसी बात का नतीजा है की अमेरिका अज इतनी रफ़्तार से कार्यवाही पर उतर आया है. अमेरिका के अनुसार आगर पकिस्तान अब भी कोई प्रतिवचन नहीं देता है तो और भी बड़े हमले हो सकते है.