Home देश India और Iran ने मिलकर पाक को सिखाया सबक, अब इस देश...

India और Iran ने मिलकर पाक को सिखाया सबक, अब इस देश की बारी है

SHARE

भारत के प्रधान मंत्रि नरेन्द्र मोदी और ईरान के सुल्तान कबूस ने ठान लिया है की वह चीन को मुह तोड़ जवाब देंगे. उन्होंने चाबहर पोर्ट से जुड़े मसले को सुलझा लिया है.

ईरान ने राष्ट्रपति हसन भारत की यात्रा पे आये है. इस सुन्हेरा मौका १० वर्षो के बाद आया है. २०१६ में मोदीजी ने ईरान की यात्रा की थी.  शनिवार को लम्बी बातचीत के बाद ९ समझौते किये.  इसमें चाबहर पोर्ट को भारतीय कंपनी को सोपने का एहम हिस्सा है.  इस पोर्ट के पहेलेफसे को दिसम्बर से शुरू कर दिया है. इस पोर्ट से तीनो देशो का फायदा होगा और व्यपार द्वारा तरकी भी होगी. भारत, ईरान, अफ़ग़ानिस्तान ने मिलकर त्रिपक्षीय समझौता किया है. इस पोर्ट के द्वारा अफ़ग़ानिस्तान को ज़मीनी रूपसे गेहू पहुचाया गया है. गेहू पहुचाने के लिए पाकिस्तान बहुत बाधाये दाल रहा था. लेकिन इस पोर्ट की मदत से पाकिस्तान को बाईपास कर दिया है. मोदीजी ने अब इस पोर्ट पर ट्रांसपोर्टेशन होगा इस विषय पर जोर दिया है.

पाकिस्तान को बाईपास करने के बाद ईरान, भारत, अफ़ग़ानिस्तान अब चीन को जवाब देंगी. चीन को  सबसे उलझ ने की मानो आदत है. चीन ने जनबुचकर भारत से दुश्मनी मोल ले ली है. डोकलाम के किस्से के बाद चीन अब को जवाब देना जरुरी है. चीन को जवाब देने के लिए ही यह चाबहर पोर्ट का समाधान हुआ है. यह अब तक का सबसे बड़ा कनेक्टिविटी प्रोजेक्ट है. इसको भारत, ईरान और रूस ने शुरू किया था. इसका पहेल ड्राई रन २०१४ में हो चूका है. लेकिन दूसरा काफी समय से टलता  आ रहा है.  मोदीजी ने कनेक्टिविटी के प्रगति के बारेमे कहा की ” यह पोर्ट भारत और अफ़ग़ानिस्तान के लिए गोल्डन गेट जैसे काम करेगा.” उनोने यह भी कहा की चाबहर रेल लाइन को भी समर्थन देगा ताकि इसका ज्यादा से ज्यादा फायदा उठाया जा सके.